धोती और बंदगला पहनकर अभिजीत बैनर्जी ने स्वीडन में लिया नोबेल पुरस्कार - .

Breaking

Wednesday, 11 December 2019

धोती और बंदगला पहनकर अभिजीत बैनर्जी ने स्वीडन में लिया नोबेल पुरस्कार

Nobel Prize 2019 : धोती और बंदगला पहनकर अभिजीत बैनर्जी ने स्वीडन में लिया नोबेल पुरस्कार

भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत विनायक बनर्जी ने स्टॉकहोम में पत्नी एस्थर डुफ्लो और अमेरिका के माइकल क्रेमर के साथ संयुक्त रूप से साल 2019 का नोबेल पुरस्कार लिया। इस दौरान अभिजीत भारतीय पंरपरा के अनुसार काले रंग का बंदगला और सफेद धोती पहने हुए थे। वहीं, उनकी पत्नी डुफ्लो ने नीली साड़ी पहन रखी थी। यह पुरस्कार वैश्विक स्तर पर गरीबी उन्मूलन के लिए किए गए कार्यों के लिए मिला है। फिलहाल अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी डूफलो मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के इकोनॉमिक्स डिपार्टमेंट में प्रोफेसर हैं।
तीनों अर्थशास्त्रियों को 'वैश्विक गरीबी खत्म करने के प्रयोग' के उनके शोध के लिए सम्मानित किया गया है। अमर्त्य सेन के बाद अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले बनर्जी दूसरे भारतीय हैं। सेन की तरह, बनर्जी भी प्रेसीडेंसी कॉलेज के पूर्व छात्र हैं, जो अब प्रेसीडेंसी विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है। बनर्जी ने 1981 में कोलकाता यूनिवर्सिटी से बीएससी किया था, जबकि 1983 में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी से एमए किया था। इसके बाद उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से 1988 में पीएचडी की थी। तीनों विजेताओं को करबी 6.5 करोड़ रुपए की इनामी राशि दी गई है, जिसे वे बराबर हिस्से में बाटेंगे।


बताते चलें कि स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में नोबेल फाउंडेशन द्वारा हर साल नोबेल पुरस्कार दिया जाता है। यह दुनिया का सर्वोच्च सम्मान है, जिसे शांति, साहित्य, रसायन विज्ञान, भौतिकी, चिकित्सा विज्ञान और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में दिया जाता है। नोबेल पुरस्कार विजेताओं के नामों की घोषणा हर साल अक्टूबर में की जाती है और सभी विजेताओं को स्वीडन के स्टॉकहोम में आयोजित समारोह में 10 दिसंबर को यह सर्वोच्च पुरस्कार दिया जाता है।

No comments:

Post a comment

Pages