स्वच्छता ही सेवा मामले में इंदौर देश में पहले स्‍थान पर, भोपाल को नौवां स्‍थान - .

Breaking

Thursday, 3 October 2019

स्वच्छता ही सेवा मामले में इंदौर देश में पहले स्‍थान पर, भोपाल को नौवां स्‍थान

स्वच्छता ही सेवा मामले में इंदौर देश में पहले स्‍थान पर, भोपाल को नौवां स्‍थान 
स्वच्छता ही सेवा मामले में इंदौर को देशभर में नंबर वन का तमगा मिला है। उल्‍लेखनीय है कि शहरी विकास मंत्रालय ने 11 सितंबर से 2 अक्टूबर तक इस संबंध में सर्वे किया था। इंदौर के लोगों ने देशभर में सबसे ज्यादा संख्या में की भागीदारी। इस सर्वे में भोपाल नौवें नंबर पर रहा। शहरी विकास मंत्रालय ने देश के 4327 शहरों में यह सर्वे किया था। शीर्ष 20 शहरों में मध्‍यप्रदेश के केवल दो ही शहर हैं। उल्‍लेखनीय है कि इंदौर लगातार तीन बार स्‍वच्‍छता के मामले में नंबर वन रहा है। शहर के सफाई के मॉडल को अपनाने के लिए देश के अन्‍य शहरों ने भी इंदौर के अधिकारियों से मार्गदर्शन लिया है। इंदौर निगमायुक्‍त आशीष सिंह को दिल्‍ली के सांसद गौतम गंभीर ने भी कचरे के निष्‍पादन से संबंधित मामले में दिल्‍ली बुलाया था।
उत्‍तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश के कई शहर इंदौर के सफाई मॉडल को अपनाने के लिए पिछले दिनों शहर में आए थे। इनमें से ज्यादातर शहरों को इंदौर को कचरा पेटी से मुक्त करने की योजना पसंद आई । इंदौर की सफाई व्‍यवस्‍था का यह आलम है कि अभी तक देश भर के 200 शहरों के अधिकारी यहां आ चुके हैं।यहां तक कि आगरा, मेरठ, जयपुर के अलावा महाराष्ट्र के कुछ शहराें ने भी इंदौर की तर्ज पर सफाई व्यवस्था शुरू कर दी है।
उल्‍लेखनीय है कि इंदौर शहर की सफाई व्यवस्था और बेहतर बनाने के लिए कई स्तर पर अहम फैसले लिए गए, इस वजह से ही इंदौर सफाई के कई पैमानों में आगे है। शहर में कचरे से जैविक खाद बनाई जा रही है। पॉलिथीन पर रोक लगा दी गई है। इंदौर नगर निगम की यह कोशिश है कि कचरे का मौके पर ही निपटान हो जाए। शहर में रात में मशीनों से सड़कों की सफाई कर शहर को धूल मुक्त बनाने का अभियान भी नियमित तौर पर चलाया जाता है।
केबीसी में जीते 12.50 लाख :- स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में उल्‍लेखनीय प्रयासों के लिए इंदौर के निगमायुक्‍त आशीष सिंह को केबीसी में आमंत्रित किया गया था। उन्‍होंने सुलम इंटरनेशनल के प्रमुख डॉ. बिंदेश्वर पाठक के साथ12.50 लाख रुपए जीते। निगमायुक्त ने डॉ. पाठक से आग्रह किया कि वे जीती हुई राशि इंदौर में शौचालय बनाने में लगाएं। डॉ. पाठक ने उनका आग्रह माना और घोषणा की कि चूंकि इंदौर लगातार तीन साल से देश का सबसे साफ शहर है इसलिए जीती हुई रकम की आधी राशि इंदौर के लिए खर्च की जाएगी।

No comments:

Post a Comment

Pages