मध्‍यप्रदेश में 45 नई जननी एक्सप्रेस शुरू, 200 से ज्यादा अभी भी जर्जर - .

Breaking

Tuesday, 15 October 2019

मध्‍यप्रदेश में 45 नई जननी एक्सप्रेस शुरू, 200 से ज्यादा अभी भी जर्जर

मध्‍यप्रदेश में 45 नई जननी एक्सप्रेस शुरू, 200 से ज्यादा अभी भी जर्जर

प्रदेश में प्रसूताओं को घर से अस्पताल और अस्पताल से घर पहुंचाने के लिए चल रही जननी एक्सप्रेस एंबुलेंसों में मंगलवार को 45 नए वाहन शामिल हो गए। पुराने हो चुके वाहनों की जगह नए वाहन चलाए जाएंगे। मुख्यमंत्री कमलनाथ, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट व जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने मंगलवार को यहां लाल परेड मैदान से इन वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। अभी भी 200 से ज्यादा जननी एक्सप्रेस वाहन जर्जर होने के बाद भी दौड़ रहे हैें।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि 45 नए जननी एक्सपे्रस वाहन शामिल करने से प्रसूताओं को बेहतर सुविधा मिल सकेगी। उम्मीद है कि और नए वाहन आएंगे। वाहनों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी। स्वास्थ्य मंंत्री ने कहा कि पुराने हो चुके सभी वाहनों को चरण्ाबद्ध तरीके से बदला जाएगा। नए वाहन पुराने से ज्यादा बेहतर और सुविधाजनक हैं।

प्रदेश् में 108 एंबुलेंस व जननी एक्सप्रेस वाहनों का संचालन जिकित्जा हेल्थ केयर लिमिटेड (जेडएचएल) कर रही है। एमओयू में शर्त है कि ढाई लाख किमी या पांच साल से ज्यादा पुराने जननी एक्सप्रेस वाहनों को बदला जाएगा। कुल 740 जननी एक्सप्रेस वाहन चल रहे हैं। इनमें 250 से ज्यादा वाहन ढाई लाख किमी से ज्यादा चल चुके हैं। 45 वाहनों को बदल दिया गया है। बाकी पुराने वाहन ही अभी चल रहे हैं। बता दें कि जेडएचएल इन वाहनों का संचालन निजी वेंडरों के माध्यम से कर रही है, जबकि 108 एंबुलेंस खुद सरकार ने खरीदी है। संचालन का जिम्मा जेडएचएल का है।
जल्द ही 50 और वाहन बदले जाएंगे :- जेडएचएल के स्टेट ऑपरेशन हेड जितेन्द्र शर्मा ने कहा कि 250 नहीं करीब 100 वाहन ही ढाई लाख किमी से ज्यादा चल चुके हैं। 50 और वाहन महीने भर के भीतर बदले जाएंगे। जैसे-जैसे वाहन पुराने होते जाएंगे इन्हें बदलने की प्रक्रिया चलती रहेगी।
अब ज्यादातर बड़े वाहन ही चलेंगे :- भारत सरकार के नए मानकों के अनुसार अब एंबुलेंस में छोटे वाहन नहीं चलेंगे। अभी तक ज्यादातर टाटा ओमनी चल रही थीं। ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क अच्छी नहीं होने की वजह से इन वाहनों से प्रसूता को लाने ले जाने में दिक्कत होती थी। अब इन्हें हटाकर बोलेरो, ईको और फोर्ड कंपनी की एक बड़ी गाड़ी चलाई जा रही है। नई एंबुलेंस में एक स्ट्रेचर, परिजन के बैठने के लिए एक सीट और फर्स्ट एड बाक्स है।

No comments:

Post a Comment

Pages