पुलिस सेवा के आठ अधिकारियों को IPS अवार्ड कराने 24 अफसरों के नाम भेजे - .

Breaking

Monday, 9 September 2019

पुलिस सेवा के आठ अधिकारियों को IPS अवार्ड कराने 24 अफसरों के नाम भेजे

पुलिस सेवा के आठ अधिकारियों को IPS अवार्ड कराने 24 अफसरों के नाम भेजे

राज्य पुलिस सेवा के आठ अधिकारियों को भारतीय पुलिस सेवा अवार्ड करने के लिए पुलिस मुख्यालय से प्रस्ताव भेजा गया है। इसमें राज्य पुलिस सेवा के 1995 बैच के दो अधिकारियों को छोड़कर 24 के नाम पदोन्न्ति के लिए भेजे हैं। इनमें से करीब आधा दर्जन अधिकारियों का सर्विस रिकॉर्ड खराब होने से उनके नाम पर विचार होने की संभावना नहीं है।
राज्य पुलिस सेवा से आईपीएस बनने वाले अधिकारियों की 2018 की स्थिति वाले रिक्त आठ पदों को पदोन्न्ति से भरने की तैयारी है। पुलिस मुख्यालय ने इसके लिए 1995 बैच के अधिकारियों के नाम भेजे हैं। सूत्र बताते हैं कि इस बार सुशील रंजन सिंह, संजय कुमार सिंह, आलोक कुमार, रघुवंश कुमार सिंह, विकास पाठक, श्रद्धा तिवारी, वैष्णव शर्मा व सिद्धार्थ चौधरी को आईपीएस अवार्ड हो सकता है। हालांकि इनमें से कुछ अधिकारियों का पुराना सर्विस रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं माना जा सकता।
सुपरसीड तीन अधिकारियों के नाम फिर प्रस्ताव में :- बताया जाता है कि पुलिस मुख्यालय से भेजे गए प्रस्ताव में पिछली बार पदोन्न्ति से वंचित रहे (सुपरसीड) अनिल कुमार मिश्रा, सुशील रंजन सिंह, देवेंद्र सिरोलिया के नाम भी शामिल हैं। इन तीनों के नाम पिछली बार भी भेजे गए थे, लेकिन सर्विस रिकॉर्ड के आधार उनकी पदोन्न्ति नहीं हो सकी थी। इस बार भी सिरोलिया व मिश्रा को पदोन्न्ति मिलने की संभावना कम है। सुशील रंजन सिंह को आईपीएस अवार्ड होने की गुंजाइश है, क्योंकि उनके खिलाफ मामलों का निराकरण हो चुका है।
अभी भी बैच के दो अफसर प्रस्ताव से बाहर :-  बताया जाता है कि बैच के तीनों वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा जिन 21 अधिकारियों के नाम पदोन्न्ति के प्रस्ताव में भेजे गए हैं, उनमें गृह मंत्री के ओएसडी संजय कुमार सिंह, आलोक कुमार, रघुवंश कुमार सिंह, विकास पाठक, श्रद्धा तिवारी, वैष्णव शर्मा, सिद्धार्थ चौधरी, यशपाल सिंह राजपूत, धर्मवीर सिंह, अरविंद तिवारी, प्रियंका मिश्रा, वीरेंद्र मिश्रा, प्रमोद कुमार सिन्हा, विजय कुमार भागवानी, राजीव मिश्रा, प्रकाशचंद्र परिहार, निश्चल झारिया, रसना ठाकुर, संतोष कोरी, जगदीश डाबर और मनोहर सिंह मंडलोई हैं। 1995 बैच के दो अधिकारियों रामजी श्रीवास्तव और जीतेंद्र सिंह पवार के नाम प्रस्ताव में नहीं हैं। सूत्र बताते हैं कि इनमें से निश्चल झारिया व रसना ठाकुर का सर्विस रिकॉर्ड दागदार होने से उनके नामों पर विचार की संभावना नहीं है।

No comments:

Post a Comment

Pages