दुनियाभर में मंदी की आहट, ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था की ग्रोथ 10 साल के निचले स्तर पर - .

Breaking

Thursday, 5 September 2019

दुनियाभर में मंदी की आहट, ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था की ग्रोथ 10 साल के निचले स्तर पर

दुनियाभर में मंदी की आहट, ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था की ग्रोथ 10 साल के निचले स्तर पर

दुनियाभर में गंभीर मंदी की आहट मिलने लगी है। इसे लेकर आईएमएफ सहित कई बड़ी एजेंसियां पहले भी आगाह कर चुकी हैं। ताजा घटनाक्रम में ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था की वृद्घि दर 10 साल के निचले स्तर पर आ गई है। बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक जून में खत्म वित्त वर्ष में ऑस्ट्रेलिया की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्घि दर महज 1.40 प्रतिशत रह गई। ऑस्ट्रेलिया में 1 जुलाई से अगले साल के 30 जून तक के समय को एक वित्त वर्ष माना जाता है।
'ऑस्ट्रेलियन ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स' के आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल-जून तिमाही में ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था की वृद्घि दर महज 0.5 फीसदी रही। ऑस्ट्रेलिया करीब 28 साल से मंदी टालने में कामयाब रहा है, लेकिन बुधवार को जारी आंकड़ों से वहां के आर्थिक परिदृश्य को लेकर चिंता की स्थिति पैदा हो गई है।
ब्याज दर रिकॉर्ड निचले स्तर पर :-  ऑस्ट्रेलिया के केंद्रीय बैंक ने देश में सुस्त खपत को देखते हुए मंगलवार को मुख्य ब्याज दर घटाकर रिकॉर्ड एक फीसदी कर दी है। विश्लेषकों का मानना है कि बैंक अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए आगामी महीनों में ब्याज दरें और घटा सकता है।
रिकवरी को लेकर पीएम आश्वस्त :-  ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिशन इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि उनका देश मंदी के इस दौर से बाहर निकलने में कामयाब रहेगा। स्थानीय रेडियो से बातचीत में उन्होंने कहा कि वह इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि हाल में टैक्स की दर में की गई कटौती से चालू वित्त वर्ष में अर्थव्यवस्था को नई मजबूती मिलेगी।
भारत पर भी असर :-  वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी का असर दुनिया के कई बड़े देशों पर देखा जा रहा है। भारत भी इससे अछूता नहीं है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पहले ही कह चुकी हैं कि भारत में सुस्ती वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी जैसे हालात का नतीजा है।

No comments:

Post a Comment

Pages