शेयर बाजार बड़ी तेजी के साथ हुआ बंद, सेंसेक्स 636 अंक चढ़ा - .

Breaking

Friday, 9 August 2019

शेयर बाजार बड़ी तेजी के साथ हुआ बंद, सेंसेक्स 636 अंक चढ़ा

शेयर बाजार बड़ी तेजी के साथ हुआ बंद, सेंसेक्स 636 अंक चढ़ा

शेयर बाजार ने गुरुवार को यू टर्न ले लिया। सेंसेक्स और निफ्टी में जोरदार तेजी दर्ज की गई। चर्चा है कि सरकार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों यानी एफपीआई की आय पर ऊंचे कर-अधिभार (सरचार्ज) का फैस लावापस लेने की घोषणा कर सकती है। इससे बाजार का रुझान अचानक मजबूत हो गया। सेंसेक्स 636.86 अंक यानी 1.74 प्रतिशत तेजी के साथ 37,327.36 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 176.95 अंक या 1.63 प्रतिशत बढ़त लेकर एक बार फिर 11,000 का स्तर लांघते हुए 11,032.45 पर बंद हुआ। सेंसेक्स और निफ्टी में यह 20 मई, 2019 से अब तक एक दिन की सबसे बड़ी तेजी है। उस दिन सेंसेक्स और निफ्टी, दोनों ने 3.6 प्रतिशत की छलांग लगाई थी। 

शेयर बाजार में विदेशी निवेशकों की तरफ से लगातार बिकवाली और बजट के बाद से आए करेक्शन को देखते हुए पिछले हफ्ते शुक्रवार को प्रधानमंत्री कार्यालय में बड़ी बैठक हुई थी। इस बैठक में एफपीआई पर सरचार्ज को लेकर चर्चा हुई थी। अब ऐसी रिपोर्ट्स आ रही हैं कि इसे जल्द हटाया जा सकता है। बहरहाल, सेंसेक्स में शामिल एचसीएल टेक, टाटा मोटर्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज ऑटो, रिलायंस इंडस्ट्रीज, हीरो मोटोकॉर्प, यस बैंक, मारुति सुजुकी, एचडीएफसी बैंक और बजाज फाइनेंस के शेयरों में 6.43 प्रतिशत तक तेजी दर्ज की गई। दूसरी ओर टाटा स्टील, इंडसइंड बैंक और एक्सिस बैंक के शेयर 3.77 प्रतिशत गिरकर बंद हुए। 

पब्लिक शेयरहोल्डिंग के मामले में भी राहत संभव :- कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक लिस्टिेड कंपनियों को न्यूनतम सार्वजनिक शेयरधारिता बढ़ाने के फैसले से भी फिलहाल राहत मिल सकती है। आम बजट में इसका एलान किया गया था कि ऐसी कंपनियों को प्रमोटरों की हिस्सेदारी घटानी होगी। बाजार का सेंटीमेंट खराब करने में इस फैसले की भी बड़ी भूमिका थी। 

जुलाई में एफपीआई ने की भारी बिकवाली :- बजट में एफपीआई पर सरचार्ज के बाद से विदेशी निवेशकों ने भारी बिकवाली की है। जुलाई में जुलाई में एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजार से करीब 11,740 करोड़ रुपए निकाल लिए। नतीजतन बाजार में नकदी की कमी पड़ गई और सेंसेक्स और निफ्टी में भारी गिरावट आई।

बाजार के लिए अच्छी खबरें जल्द :- सेंट्रम वेल्थ मैनेजमेंट के प्रमुख (इक्विटी एडवाइजरी) देवांग मेहता ने कहा कि एफपीआई पर सरचार्ज को लेकर स्पष्टीकरण या इसे वापस लेने की चर्चा से बाजार ने राहत की सांस ली। बाजार में हाल की गिरावट की वजह यह रही कि एफपीआई बजट के बाद से लगातार बिकवाली कर रहे हैं।

पिछले कुछ दिन से उनकी बिकवाली तेज हुई है। अर्थव्यवस्था में सुस्ती, कुछ क्षेत्रों के कमजोर तिमाही नतीजे और ट्रेड वॉर के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में उतार-चढ़ाव की वजह से भी बाजार प्रभावित हुआ। फिलहाल वित्त मंत्रालय कॉरपोरेट के साथ गहन चर्चा कर रहा है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि जल्द अर्थव्यवस्था पर भरोसा कायम करने वाले कुछ उपायों की घोषणा की जा सकती है।

No comments:

Post a Comment

Pages