उज्‍जैन के गोपाल मंदिर में 110 साल पुरानी परंपरा, कृष्ण जन्म के बाद पांच दिन तक नहीं होती शयन आरती - .

Breaking

Tuesday, 27 August 2019

उज्‍जैन के गोपाल मंदिर में 110 साल पुरानी परंपरा, कृष्ण जन्म के बाद पांच दिन तक नहीं होती शयन आरती

Janmashtami 2019 : उज्‍जैन के गोपाल मंदिर में 110 साल पुरानी परंपरा, कृष्ण जन्म के बाद पांच दिन तक नहीं होती शयन आरती

सिंधिया देव स्थान ट्रस्ट के प्रसिद्ध गोपाल मंदिर में राजवंश परंपरा अनुसार शुक्रवार को जन्माष्टमी मनाई जाएगी। मध्यरात्रि में 12 बजे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा। खास बात यह है कि मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के बाद रोज होने वाली शयन आरती नहीं होगी। पांच दिन तक सेवा पूजा के बाद 27 अगस्त को बछबारस पर दोपहर 12 बजे शयन आरती होगी। पुजारी पं.अर्पित जोशी ने बताया यह परंपरा बीते 110 वर्षों से चली आ रही है। इसके पीछे मान्यता है कि जन्म के बाद भगवान बाल्यावस्था में होते हैं और बालक के जागने व सोने का समय निश्चित नहीं रहता है। ऐसे में नियत समय पर शयन आरती नहीं की जा सकती है। ऐसे में पांच दिन तक बाल गोपाल से लाड़ लड़ाए जाते हैं। उन्हें दूध, माखन आदि का भोग लगाया जाता है। 

मान्यता अनुसार बछबारस पर भगवान बड़े होते हैं इस दिन सुबह अभिषेक पूजन के बाद उन्हें चांदी की पादुका पहनाई जाती है। चांदी की यह पादुका सिंधिया राजवंश की है। इसके बाद भगवान मंदिर के मुख्य द्वार पर बांधी गई माखन मटकी फोड़ते हैं। पश्चात दोपहर में शयन आरती होती है। साल में एक बार यह अवसर आता है, जब दिन में भगवान की शयन आरती की जाती है।
बायजाबाई सिंधिया ने कराया था मंदिर का निर्माण :- शहर के मध्य में स्थित श्री द्वारकाधीश गोपाल मंदिर का निर्माण संवत् 1909 में सिंधिया राजवंश की महारानी बायजाबाई सिंधिया ने कराया था। अत्यंत कलात्मक व भव्य मंदिर में भगवान द्वारकाधीश पटरानी रुक्मिणीजी के साथ विराजित हैं। राधा-रुक्मिणी व भगवान गोपालकृष्ण के अर्चाविग्रह की नित्य पूजा अर्चना होती है। रात्रि 8 बजे शयन आरती के बाद अर्चा विग्रह को चांदी के रथ में विराजित कर मंदिर के दायीं ओर बने शयन कक्ष में शयन के लिए ले जाया जाता है। जन्माष्टमी से बछबारस तक भगवान गर्भगृह में ही विराजित रहते हैं।
भगवान कृष्ण सुदामा का मैत्री स्थल नारायणा :- उज्जैन का समीपस्थ ग्राम नारायणा भगवान श्रीकृष्ण व सुदामा के मैत्री स्थल के रूप में विश्व विख्यात है। बताया जाता है सांदीपनि आश्रम में विद्याध्ययन के दौरान भगवान श्रीकृष्ण मित्र सुदामा के साथ वन में लकड़ियां लेने गए थे। लौटने में समय लग गया और उन्हें रात्रि विश्राम करना पड़ा। धर्म कथा के अनुसार इसी स्थान पर सुदामा ने भगवान श्रीकृष्ण से छुपाकर चने खाए थे। आज यह स्थान विश्व के श्रीकृष्ण भक्तों के लिए तीर्थ बन गया है। असंख्य कृष्ण भक्त प्रतिवर्ष यहां दर्शन के लिए आते हैं। मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण व सुदामाजी की दिव्य मूर्तियां विराजित हैं। जन्माष्टमी पर मंदिर में विशेष उत्सव मनाया जाता है।

No comments:

Post a Comment

Pages