माल्या से जुड़ी फर्जी फर्म पर ED का छापा, 220 करोड़ था टर्नओवर - .

Breaking

Tuesday, 30 July 2019

माल्या से जुड़ी फर्जी फर्म पर ED का छापा, 220 करोड़ था टर्नओवर

माल्या से जुड़ी फर्जी फर्म पर ED का छापा, 220 करोड़ था टर्नओवर

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने फर्जी कंपनी बनाकर बैंक से कर्ज लेने के फरार उद्योगपति विजय माल्या के गठजोड़ का भंडाफोड़ किया है। ED ने पिछले हफ्ते नए आर्थिक अपराध कानून (FEO) के तहत बेंगलुरु में वी शशिकांत और उनके परिजनों के ठिकानों पर पहली बार छापेमारी की। एजेंसी को शशिकांत के खिलाफ धन के फर्जी लेनदेन के सुबूत मिले हैं। पता चला है कि शशिकांत विजय माल्या का नजदीकी है। वह फरवरी 2017 तक माल्या समूह की कंपनी में अधिकारी था। उसने माल्या के कार्यकारी सहायक के रूप में नौ साल तक काम किया।
इस दौरान शशिकांत माल्या की कंपनी यूनाइटेड बे्रवरीज होल्डिंग लिमिटेड (UBHL) का प्रबंध निदेशक भी था। ED ने शशिकांत के वे सारे दस्तावेज, ईमेल, वाट्स चैट इत्यादि जब्त किए हैं जिनमें उसने विजय माल्या से बात की या संदेशों का आदान-प्रदान किया। यूबीएचएल के पास यूनाइटेड ब्रेवरीज लिमिटेड के 10.72 प्रतिशत शेयर हैं। यूनाइटेड ब्रेवरीज किंगफिशर ब्रांड की बियर और जूते निर्यात करती है। 

जांच में पाया गया कि शशिकांत ने यूनाइटेड ब्रांडिंग वर्ल्डवाइड (UBWU) नाम की भी एक कंपनी बना रखी थी। इसका रजिस्ट्रेशन लावेल रोड, बेंगलुरु के पते पर कराया गया था। इस कंपनी में शशिकांत की पत्नी जयंती और बेटी अर्चिता को हिस्सेदार बनाया गया था। UBWU कंपनी UBHL की ओर से किंगफिशर ब्रांड की बियर और जूते निर्यात करने की जिम्मेदारी संभाल रही थी। इस कंपनी का टर्नओवर 220 करोड़ रुपये सालाना तक था। ED की जांच में पता चला है कि यूबीडब्ल्यू का 60 प्रतिशत निर्यात दुबई की कंपनी टैमी इंटरनेशनल को किया जा रहा था, जो कई देशों में किंगफिशर बियर का निर्यात करती है। जांच में पता चला कि दुबई की कंपनी में अधिकांश शेयर शशिकांत की बेटी है। इसी के चलते ED को शक पैदा हुआ कि दुबई में फर्जी कंपनी बनाकर धन को घुमाया जा रहा था और वह अंततः विजय माल्या के पास पहुंच रहा था।
ED की इस कार्रवाई के खिलाफ माल्या ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। शीर्ष न्यायालय माल्या की अर्जी पर दो अगस्त को सुनवाई करेगी। माल्या इस समय बैंकों के नौ हजार करोड़ रुपये लेकर लंदन में छिपा हुआ है।

No comments:

Post a Comment

Pages