मुंह पर काली पट्टी बांधकर जताया रोष, प्रधानमंत्री से लगायी न्याय और सुरक्षा की गुहार - .

Breaking

Wednesday, 31 July 2019

मुंह पर काली पट्टी बांधकर जताया रोष, प्रधानमंत्री से लगायी न्याय और सुरक्षा की गुहार

मुंह पर काली पट्टी बांधकर जताया रोष, प्रधानमंत्री से लगायी न्याय और सुरक्षा की गुहार

उन्नाव दुष्‍कर्म पीड़िता को न्याय दिलाने की मांग को लेकर लोक समिति के तत्वावधान में बुधवार को प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम नागेपुर में नंदघर पर महिलाओं ने मुंह पर काली पट्टी बांधकर धरना प्रदर्शन किया। लोगों ने सरकार पर आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में लगातार महिलाओं व युवतियों के साथ हिंसा व दुराचार की घटना दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। इसपर सरकार अंकुश नही लगा पा रही है, लोगों ने प्रशासन पर आरोपी विधायक को संरक्षण देने का आरोप भी लगाया।
महिलाओं और ग्रामीणों ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करके पीड़िता को न्याय दिलाने और उत्तर प्रदेश में बेटियों की सुरक्षा की गुहार लगायी। दुष्‍कर्म के मामले में वर्तमान विधायक कुलदीप सिंह सेंगर आरोपित हैं, जिसके खिलाफ एफआइआर दर्ज करवाई गई थी। लेकिन इसके बावजूद विधायक पर कोई ठोस कार्यवाही नहीं हो पाई। कुछ दिन पहले साजिशन पीडिता के पिता की थाने में ही हत्या करवा दी गई। लड़की के ही चाचा को फ़र्ज़ी मुकदमों में फंसाकर जेल में भेज दिया गया। अभी दो दिन पहले लड़की व उसके परिवार वालो और वकील की साजिशन हत्या का प्रयास किया गया। रविवार को पीड़िता और परिवार रायबरेली जेल में बंद चाचा से मिलने जा रहा था। तभी रास्ते में एक ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी। इसमें इस केस के दो अहम गवाह चाची और मौसी की मौत हो गई।
पीड़िता और गाड़ी चला रहा वकील हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। पीड़िता ने विधायक पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था अब हादसे के बाद पीड़िता की हालत नाजुक बनी हुई है। डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता को वेंटीलेटर पर रखा गया है। जहां वो ज़िन्दगी और मौत से जूझ रही है। लोगों ने सरकार पर आरोप लगाया कि कैसे नाक के नीचे से ये घटना को अंजाम दिया जाता है और प्रशासन मूकदर्शक बनकर देखता रहता है। ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही होना चाहिए। 
लोक समिति संयोजक नन्दलाल मास्टर ने कहा कि उन्नाव के रेप आरोपी अभियुक्त विधायक के इशारे पर हुई कथित दुर्घटना में रेप पीड़ित को पूरे परिवार सहित मारने की दुस्साहसिक घटना बहुत गंभीर है। शासन ऐसे पीड़ितों को संरक्षण देने की बजाय आरोपियों को बचाने में जुटा है। धरना प्रदर्शन कार्यक्रम में मुख्यरूप से नन्दलाल मास्टर, सरिता, अनीता, सोनी, राजकुमारी, मैनम बानो, बेबी, प्रेमा, राजकुमारी, मधुबाला, मनजीता, विद्या, समांबानो, अमित, चन्द्रकला, सुनील, रामबचन, पंचमुखी, श्यामसुन्दर, आशा आदि शामिल रहे।

No comments:

Post a Comment

Pages