जिला योजना समिति की बैठक में भी गरमाया बिजली संकट, कांग्रेस नेताओं ने अपनी सरकार को घेरा - .

Breaking

Friday, 28 June 2019

जिला योजना समिति की बैठक में भी गरमाया बिजली संकट, कांग्रेस नेताओं ने अपनी सरकार को घेरा

जिला योजना समिति की बैठक में भी गरमाया बिजली संकट, कांग्रेस नेताओं ने अपनी सरकार को घेरा

कांग्रेस सरकार आने के बाद पहली बार हुई जिला योजना समिति की बैठक में विधि मंत्री पीसी शर्मा और अन्य कांग्रेस नेताओं ने ही सरकार के कामकाज पर सवाल खड़े कर दिए। जिले के एक किसान का 72 हजार रुपए का बिजली का बिल दिखाते हुए बैठक में पीसी शर्मा ने आरोप लगाया कि संबल योजना के तहत किसानों के बिजली बिल माफ नहीं हुए हैं, जो अब उनके बिल में जुड़कर आ रहा है। इसलिए हर दूसरा किसान परेशान हो रहा है। वहीं समिति के सदस्य और हुजूर विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे नरेश ज्ञानचंदानी ने आरोप लगाया कि किसानों के मोबाइल पर ऋण माफी के मैसेज तो आ गए, लेकिन उनके खाते में अब तक पैसा नहीं आया है।
इन शिकायतों पर जिला योजना समिति की बैठक में भाजपा और कांग्रेस विधायकों के बीच जमकर बहस हुई। पीसी शर्मा ने कहा कि विधानसभा चुनाव की आचार संहिता के पहले जितने लोगों का बिल माफ होकर उन्हें प्रमाण पत्र वितरित हुआ उसके बाद से किसी का बिल माफ नहीं हुआ है। प्रभारी मंत्री ने तत्काल इसकी जांच के आदेश बिजली कंपनी के डिविजनल इंजीनियर को दिए।

बिजली कटौती और बिल का मुद्दा छाया रहा :- बैठक में ज्यादातर समय बिजली कटौती और बढ़े हुए बिजली बिलों का मुद्दा छाया रहा। बैठक में प्रभारी मंत्री ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी सरकार ने नकली ट्रांसफार्मर और नकली बिजली के तार लगाकर करोड़ों का घोटाला किया है। अब आंधी से तार टूट जाएगा तो उसको लगाने में समय तो लगेगा ही। इस पर भाजपा विधायकों ने खूब हंगाम किया। गोविंद सिंह ने कहा कि बीजेपी का काम है झूठ बोलो और जल्दी जल्दी बोलो, इसकी उन्हें ट्रेनिंग दी जाती है। बिजली कटौती और बिल की शिकायतों की भरमार हुई तो प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह ने माना कि बिजली को लेकर अव्यवस्था है, इसमें सुधार की जरूरत है। जिले में जिन क्षेत्रों के बिजली बिल की ज्यादा शिकायतें है। वहां शिविर लगाकर बिजली बिलों में सुधार करवाया जाए।

बिजली आने-जाने पर अफसर ने दिए दो तरह के जवाब :- बैठक में गैस राहत व अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री आरिफ अकील ने बिजली कंपनी के अफसरों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने पूछा कि पहले भी बिजली जाती थी, तार टूटते थे लेकिन अब यह ज्यादा क्यो हो रहा है? इस सवाल पर डिविजनल इंजीनियर ने जवाब दिया कि बिजली की कोई कमी नहीं है। हमारे पास सरप्लस बिजली है। कई बार गर्मी के कारण लोड बढ़ने से पावर अप और डाउन होता रहता है। इस पर रामेश्वर शर्मा ने कहा कि उनके क्षेत्र में तो 4-4 घंटे तक बिजली नहीं रहती। इस पर इंजीनियर ने जवाब दिया कि हवा के कारण तार टूट जाते है जिन्हें जोड़ने में समय लगता है।

इस पर भाजपा विधायक विश्वास सारंग ने चुटकी लेते हुए कहा कि यह है कांग्रेस की सरकार। आपकी सरकार के अधिकारी दो तरह की बातें कर रहे है। असली बात क्या है कोई नहीं बता रहे है। इस बीच आरिफ अकील बिजली कंपनी के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाते हुए कहा कि बिजली की बदहाल व्यवस्था को ठीक करने के लिए पूरी लगन और मेहनत से काम करें।
भाजपा ने भी घेरा :- बैठक में जब कांग्रेस नेताओं ने ही व्यवस्था पर सवाल उठाए तो भाजपा विधायक विश्वास सारंग ने कहा कि नामांकित प्रतिनिधि ही आरोप लगा रहे हैं कि कर्ज माफी योजना फेल है। इस पर डॉ. गोविंद सिंह ने कहा है कि कोई पात्र किसान ऋ ण माफी से नहीं छूटेगा और कुछ ही दिनों में जय किसान ऋ ण माफी योजना के तहत किसानों के खातों में 2 हजार करोड़ रुपए जमा किए जाएंगे।
इस सीजन में जिले के किसानों को 102 करोड़ का ऋण :- बैठक में बताया गया कि जिले में दूसरे चरण में ऋ ण माफी का काम तेजी से जारी है। प्रथम चरण में चालू खातों के ऋणी 10 हजार 604 किसानों का 27 करोड़ से अधिक का ऋण माफ किया गया है। जल्द ही कालातीत ऋण और चालू खाते वाले किसानों का ऋण भी जल्दी ही माफ किया जाएगा। वहीं इस सीजन में जिले के किसानों को अब तक 102 करोड़ रुपए का ऋण दिया जा चुका है।

No comments:

Post a Comment

Pages