ऑटोमैटिक गियरबॉक्स वाली कार में लोग करते हैं ये 5 गलतियां, आप भी तो नहीं शामिल - .

Breaking

Wednesday, 15 May 2019

ऑटोमैटिक गियरबॉक्स वाली कार में लोग करते हैं ये 5 गलतियां, आप भी तो नहीं शामिल

ऑटोमैटिक गियरबॉक्स वाली कार में लोग करते हैं ये 5 गलतियां, आप भी तो नहीं शामिल

 भारतीय सड़कों पर बढ़ते ट्रैफिक के चलते ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कारों की बिक्री लगातार बढ़ती जा रही है। खासकर, 5 लाख रुपये से कम बजट वाली ऑटोमैटिक कारें सबसे ज्यादा खरीदी जा रही हैं। हालांकि, ऑटोमैटिक कारों लेकर कई लोग काफी गलतियां भी करते हैं जो कि ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन का काफी नुकसान पहुंचाती हैं। आज हम आपको अपनी इस खबर में ऐसी 5 गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो लोग अक्सर अपनी ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कार के साथ करते हैं।
ढलान पर न्यूट्रल लगाकर ड्राइव :- ज्यादातर लोग सबसे ज्यादा जो गलतियां करते हुए नजर आते हैं वह है अपनी ऑटोमैटिक कार को ढलान पर चलाने के दौरान न्यूट्रल लगाकर छोड़ना, जिससे लोगों को लगता है 'N' पर चलाने से फ्यूल की बचत होती है। लेकिन यह बिलकुल गलत है। बता दें, 'N' पर ऑयल की सप्लाई में कटौती होती है, इसलिए ट्रांसमिशन को स्मूथ ऑपरेशन के लिए प्रोपर ल्यूब्रिकेशन नहीं मिल पाता और यह बदले में आपकी कार के गियरबॉक्स को काफी नुकसान पहुंचा सकता है।
D से R पर बिना रुके गियर डालना :- दूसरी बड़ी गलती ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ यह करते हैं कि लोग मैनुअल कार की तरह ही बिना रुके सीधा D से R या फिर R से D पर गियर डालते हैं, जो कि गलत है। गियर बदलते समय हमेशा गाड़ी रोककर ड्राइव और रिवर्स मोड पर डालना चाहिए, नहीं तो ट्रांसमिशन बैंड और क्लच में खराबी आ सकती है और गियरबॉक्स फैल हो सकता है।
लॉन्च कंट्रोल :- ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन से लैस कारें लॉन्च कंट्रोल नामक फीचर के साथ आती हैं। प्रतियोगिता के मूड में होने पर यह आपको एक अच्छी शुरुआत देता है। दूसरी ओर मैनुअल गियरबॉक्स आपको कार लॉन्च करने का नियंत्रण देता है। ऑटो बॉक्स में नए लोग कभी-कभी न्यूट्रल में रेव्स को बिल्ड करते हैं और फिर लॉन्च करते समय ड्राइव 'D' पर स्विच करते हैं, जोकि इंजन और गियरबॉक्स के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए अगर आप अपनी कार को सही तरीके से लॉन्च कर रहे हैं तो हमेशा आपको ड्राइव मोड पर ही रखना चाहिए और ब्रेक पेडल का सही इस्तेमाल करना चाहिए।
बिना रुके P पर शिफ्ट करना :- ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन में P मोड का इस्तेमाल हमेशा पार्किंग के लिए होता है, जो मूल रूप से कार को आगे या पीछे जाने में रोक देता है। जब आप गियर लीवर को P पर शिफ्ट करते हैं, तो गियरबॉक्स कोग को घुमाने से रोकने के लिए पार्किंग पावल का उपयोग करता है, इस वजह से कार पार्किंग में खड़े रहकर ना आगे की ओर जा सकती और ना ही पीछे की ओर। वहीं, अगर आप यह चलती कार में करते हैं तो इससे आपकी कार का ट्रांसमिशन खराब हो सकता है।
ट्रैफिक लाइट्स में न्यूट्रल :- आखिरी और ज्यादातर गलती ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कार में लोग यह करते हैं कि वह ट्रैफिक में रेडलाइट्स पर कार न्यूट्रल कर देते हैं। ड्राइवर ज्यादातर ईंधन बचाने और पेडल्स का इस्तेमाल करने से बचने के लिए इस तरह का काम करते हैं। हालांकि, नुकसान कम से कम तब है जब आप ब्रेक को धक्का देते हैं और गियरबॉक्स को ड्राइव मोड में रखते हैं। इसके अलावा अगर आपकी कार ऑटोमैटिक स्टॉप-स्टार्ट सिस्टम से लैस है तो इसका उपयोग करें। ऐसे में जब भी आप अपनी गाड़ी को रोकते हैं तो सिस्टम वाहन को बंद कर देता है और ब्रेक पैडल से अपना पैर हटाने के बाद इंजन को रिस्टार्ट करता है, इसमें शर्त यह है कि आपने D मोड पर गाड़ी को रखा हो। इसलिए आप ट्रैफिक में ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के दौरान अपनी गाड़ी को न्यूट्रल में ना रखें।

No comments:

Post a Comment

Pages