सैटेलाइट से निकला सच, MP के जंगल आगजनी में सात दिन में बने नंबर वन - .

Breaking

Sunday, 7 April 2019

सैटेलाइट से निकला सच, MP के जंगल आगजनी में सात दिन में बने नंबर वन

सैटेलाइट से निकला सच, MP के जंगल आगजनी में सात दिन में बने नंबर वन

गर्मी में पारा बढ़ने के साथ ही जंगलों में आगजनी की घटनाएं बढ़ गई हैं। इसके लिए वन विभाग ने प्रदेशभर में फायर अलर्ट घोषित किया है। आग पर काबू पाने के लिए नया प्रयोग शुरू हुआ है। फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया (एफएसआई) सैटेलाइट के जरिए देशभर के जंगलों पर नजर रखे हुए हैं। इस सिस्टम से मध्यप्रदेश का वन विभाग भी जुड़ा हुआ है। आग लगते ही विभाग के अमले को तुरंत मोबाइल पर मैसेज के जरिए लोकेशन मिल रही है। यह प्रयोग पहली बार हो रहा है। इधर, एफएसआई की वेबसाइट के अनुसार, बीते सात दिन में देशभर में सबसे ज्यादा आग मप्र के वन क्षेत्रों में लगी है। जबकि नवंबर 2018 से अप्रैल 2019 के बीच आगजनी की घटनाओं में प्रदेश तीसरे स्थान पर था।
आमतौर पर जंगल की आग के बारे में विभाग को ग्रामीणों और स्टाफ से पता चलता है। मगर घना जंगल होने से कई बार सूचना देरी से मिलती है, जिससे जंगल को काफी नुकसान होता है। इससे बचने के लिए विभाग और एफएसआई के संयुक्त प्रयास से आग पर काबू पाया जा रहा है। विभाग के मुख्यालय पर सैटेलाइट के जरिए वनक्षेत्रों पर निगरानी रखी जा रही है। 

आग लगते ही तत्काल सीसीएफ, सीएफ, एसडीओ और रेंजर को जानकारी भेजते है, जिसमें रेंज, वनक्षेत्र का नाम और कक्ष क्रमांक रहता है। सिस्टम को विभाग से मिले मोबाइल नंबर से जोड़ा गया है। यह जानकारी 15 मिनट में ही संबंधित स्टाफ तक पहुंचाई जाती है। काम यहीं खत्म नहीं होता है। आग पर काबू पाने के बाद स्टाफ को फीडबैक देना पड़ता है। इसमें आग कितनी देर में बुझाई, जंगल का कितना नुकसान और कारण बताना होता है। पूरे घटनाक्रम के बारे में ऑनलाइन जानकारी भरना होती है।
आगजनी में तीसरे स्थान पर प्रदेश :- यह भी पढ़ें

जंगल में आग लगने की घटनाओं में मध्यप्रदेश देशभर में तीसरे स्थान पर है। एफएसआई की वेबसाइट के अनुसार, 2018-19 में पांच राज्यों में अधिक आगजनी हुई है। ये मिजोरम, छत्तीसगढ़, मप्र, असम और महाराष्ट्र है। बीते 13 दिन में तापमान बढ़ने के साथ ही आगजनी की घटनाएं भी बढ़ी हैं। 30 मार्च से 6 अप्रैल तक प्रदेश में सबसे ज्यादा आगजनी हुई, इससे वह पहले स्थान पर आ गया। 25 मार्च से 6 अप्रैल के बीच इंदौर वनमंडल में करीब 107 जगह आग लगी है। इसमें इंदौर में 37, चोरल में 42, महू में 10, मानपुर क्षेत्र में 18 जगह आगजनी हुई।

No comments:

Post a Comment

Pages