इंटरपोल ने जबलपुर पुलिस से मांगी मदद, जानिए क्या है पूरा मामला - .

Breaking

Friday, 5 April 2019

इंटरपोल ने जबलपुर पुलिस से मांगी मदद, जानिए क्या है पूरा मामला

इंटरपोल ने जबलपुर पुलिस से मांगी मदद, जानिए क्या है पूरा मामला

आंध्रप्रदेश के श्री गोविंदराज स्वामी मंदिर (तिरुपति) से करोड़ों रुपए कीमती हीरे जड़ित सोने के मुकुट चुराने वालों की तलाश में इंटरपोल ने जबलपुर पुलिस से मदद मांगी है। इंटरपोल से जारी पत्र मिलते ही पुलिस संदिग्धों की तलाश में जुट गई है। चोरों के रेल मार्ग से भागने की पुलिस को आशंका है। जबलपुर और इटारसी से तिरुपति के लिए ट्रेन से आवागमन की सुविधा होने के कारण चोरों को यहां भी तलाशा जा रहा है। आशंका है कि रेल मार्ग से फरार हुए आरोपित जबलपुर में रहकर फरारी काट सकते हैं। पुलिस अधीक्षक निमिष अग्रवाल ने पुलिस टीम गठित कर संदिग्धों की पतासाजी के निर्देश दिए हैं।
फरवरी में हुई थी घटना :- तिरुपति के श्री गोविंदराज स्वामी मंदिर से सोने के तीन मुकुट चोरी होने की घटना फरवरी की बताई जा रही है। इस प्राचीन मंदिर में भगवान गोविंदराज स्वामी और उनकी पत्नियों श्रीदेवी व भूदेवी की मूर्तियों पर हीरा जड़ित सोने के मुकुट चढ़े थे। जिनका वजन करीब डेढ़ किलोग्राम बताया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि चोरी की घटना 2 फरवरी को हुई थी। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीडीपी) के सुरक्षा अधिकारी द्वारा चोरी की एफआईआर दर्ज कराई गई है।
सक्रिय गिरोह की जानकारी मांगी :- घटना के बाद मंदिर के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया। कैमरे में कुछ संदिग्ध कैद हो गए। इंटरपोल के पत्र के बाद जबलपुर पुलिस संदिग्धों की तलाश के साथ ऐसे गिरोह का भी पता लगा रही है जो इस तरह की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। बताया जाता है कि वैष्णव संत रामानुज ने 1130 में मंदिर की नींव रखी थी। गोविंदराज स्वामी मंदिर तिरुपति के प्रसिद्घ मंदिरों में शामिल है।
इसलिए शामिल हुआ इंटरपोल :-पुलिस अधिकारियों ने बताया कि देश में कहीं भी बड़ी वारदात हो तो आरोपितों तक पहुंचने के लिए पुलिस रेडियो मैसेज का सहारा लेती है। देश के तमाम जिलों में रेडियो मैसेज के जरिए घटनाक्रम की जानकारी देकर संदिग्धों की पतासाजी या उस तरह का अपराध करने वाले गिरोह या बदमाशों की जानकारी ली जाती है। लेकिन जब आरोपितों के हवाई मार्ग से भी भागने की आशंका हो तो इंटरपोल की मदद ली जाती है। इंटरपोल तक जानकारी पहुंचने के बाद प्रदेशों में जिला पुलिस की सर्चिंग के साथ ही हवाई अड्डों पर सुरक्षा एजेंसियां सक्रिय हो जाती हैं। पुलिस अधीक्षक निमिष अग्रवाल का कहना है कि इंटरपोल की सूचना को गंभीरता से लेकर कार्रवाई की जा रही है।

No comments:

Post a Comment

Pages