स्क्रीनिंग कमेटी के सामने आए पैनल में मंत्री-विधायकों के रिश्तेदारों के नाम - .

Breaking

Monday, 4 March 2019

स्क्रीनिंग कमेटी के सामने आए पैनल में मंत्री-विधायकों के रिश्तेदारों के नाम

स्क्रीनिंग कमेटी के सामने आए पैनल में मंत्री-विधायकों के रिश्तेदारों के नाम

मप्र में लोकसभा प्रत्याशियों के चयन को लेकर कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी महाशिवरात्रि के बाद फिर बैठेगी। शनिवार रात स्क्रीनिंग कमेटी ने दिल्ली में बैठक कर ज्यादातर सीटों पर चर्चा की और 6 सीटों पर एक-एक नाम तय कर लिए हैं। कुछ सीटों पर मंत्री और विधायकों के रिश्तेदारों के नाम संभावित प्रत्याशियों के पैनल में शामिल हो गए हैं। वहीं, चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद कुछ प्रत्याशियों के एलान के भी संकेत हैं। प्रदेश के चारों बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर की सीटों पर कमेटी की दूसरी बैठक में चर्चा की संभावना है। दरअसल, रविवार को स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक प्रस्तावित थी, लेकिन एआईसीसी के महासचिव और प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया को अस्पताल से छुट्टी न मिलने के कारण बैठक नहीं हो सकी। प्रदेश की दो सीटों गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया और रतलाम-झाबुआ से कांतिलाल भूरिया (मौजूदा सांसद) को टिकट दिया जाएगा।

छिंदवाड़ा से कमलनाथ मुख्यमंत्री के लिए अभी उपचुनाव लड़ेंगे। उनकी सीट से पुत्र नकुलनाथ का टिकट तय है। सूत्रों के मुताबिक, सतना से अजय सिंह, खंडवा से पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव और मुरैना से पूर्व विधायक रामनिवास रावत का नाम लगभग तय हो गया है।
बुंदेलखंड में दो ओबीसी-एक ब्राह्मण :- सूत्रों के अनुसार बुंदेलखंड में एक अनुसूचित जाति, दो ओबीसी और एक ब्राह्मण नेता को प्रत्याशी बनाए जाने का फार्मूला बना है। आरक्षित सीट टीकमगढ़ से संजय कसगर व पूर्व आईएएस अधिकारी शशि कर्णावत के साथ अहिरवार समाज के दो नेता पूर्व सांसद आनंद अहिरवार व वृंदावन अहिरवार का पैनल बना है। दो ओबीसी टिकट सागर व दमोह में दिए जा सकते हैं, जिसमें सागर से प्रभुसिंह और अरुणोदय चौबे के पैनल में से प्रभुसिंह की संभावना प्रबल बताई जा रही है।
यहां कांग्रेस प्रत्याशी भाजपा के नरेंद्र सिंह तोमर या जयंत मलैया को टिकट मिलने पर बदला भी जा सकता है। दमोह में पूर्व विधायक प्रताप सिंह लोधी और पूर्व सांसद रामकृष्ण कुसमरिया के नाम पैनल तक पहुंच गए हैं। वहीं, खजुराहो में ब्राह्मण प्रत्याशी बनाए जाने के आसार हैं जिनमें पूर्व मंत्री मुकेश नायक, प्रदेश कांग्रेस के पूर्व संगठन प्रभारी महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी और विधायक विक्रम सिंह नातीराजा की पत्नी कविता सिंह के नाम स्क्रीनिंग कमेटी ने पैनल में लिए हैं।

मंत्री-विधायक के रिश्तेदार :- सूत्र बताते हैं कि मालवा-निमाड़ में उज्जैन और खरगोन में तीन-तीन नाम के पैनल हैं। खरगोन में पूर्व विधायक रमेश पटेल व विजय सिंह सोलंकी के साथ मंत्री बाला बच्चन की पत्नी का नाम है तो उज्जैन में विधायक महेश परमार की बहन डॉ. सीमा, पूर्व विधायक बाबूलाल मालवीय और मंत्री तुलसीराम सिलावट के पुत्र का नाम स्क्रीनिंग कमेटी के पैनल में पहुंच गए हैं। इसी तरह मालवा की धार लोकसभा सीट पर पूर्व सांसद गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी व जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस) की पसंद के नेता भगवान सिंह सोलंकी का नाम दिया गया है।

विंध्य-महाकोशल के पैनल :- सूत्रों ने बताया है कि विंध्य में सीधी सीट के लिए पूर्व सांसद माणिक सिंह और पूर्व विधायक वंशमणि वर्मा के नाम पैनल में हैं, जिनके लिए पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और मंत्री कमलेश्वर पटेल की भी सहमति ली जाना है। मंडला लोकसभा क्षेत्र में स्क्रीनिंग कमेटी ने पूर्व विधायक नन्हेसिंह धुर्वे और कृष्णा उरेती तो शहडोल में भाजपा से कांग्रेस में आई पूर्व विधायक प्रमिला सिंह, नरेंद्र मरावी के नाम पैनल में हैं। लोकसभा उपचुनाव में हारी प्रत्याशी हिमाद्री सिंह का नाम विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ काम करने के कारण पैनल में नहीं लिया गया।

No comments:

Post a Comment

Pages