जिस टाकीज में फिल्म देखने के लिए पुलिस के डंडे खाए, उसी में पर्दे पर नजर आए - .

Breaking

Sunday, 10 February 2019

जिस टाकीज में फिल्म देखने के लिए पुलिस के डंडे खाए, उसी में पर्दे पर नजर आए

Johnny Karan: जिस टाकीज में फिल्म देखने के लिए पुलिस के डंडे खाए, उसी में पर्दे पर नजर आए

 वह 30 से ज्यादा फिल्मों और कई सीरियलों में तरह-तरह के रोल निभा चुके हैं। लेकिन सादगी का आलम ये है कि ईगो न उनकी बातों में झलकता है और न ही व्यवहार में। सबसे इतनी विनम्रता से पेश आते हैं कि कई बार लोग सोचने लगते हैं कि क्या यह वही कलाकार है जो अक्षय कुमार से लेकर संजय दत्त और आमिर खान तक के साथ रुपहले पर्दे पर नजर आ चुका है। बात हो रही है मशहूर बॉलीवुड अभिनेता जॉनी करण की। कीमत, घूंघट, कुरुक्षेत्र, पिता, मेरे जीवन साथी, तीस मार खां' जैसी फिल्मों के अलावा आमिर खान के साथ कोल्ड ड्रिंक के विज्ञापन 'ठंडा मतलब ....’ में नजर आए जॉनी 'आमिर खान प्रोडक्शंस' के बैनर तले रामायण पर बनने वाली प्रस्तावित फिल्म 'वाल्मीकि' के लिए लोकेशंस और आर्टिस्ट्स की तलाश में शनिवार को शहर आए इस कलाकार की कहानी भी पूरी फिल्मी है।
इस तरह चढ़ा फिल्मों का जुनून :- फिल्मों को लेकर उनके जोश, जुनून और जज्बे की कहानी 1986 में एक घटना से शुरू होती है जब वे खरगोन के एक टाकीज में अपने पसंदीदा एक्टर धर्मेद्र की 'यादों की बारात' फिल्म देखने गए। जल्दी टिकट पाने की चाह में जॉनी पुलिस वालों की नजर बचाकर टिकट खरीदने वालों की दो लाइनों के बीच से घुसते हुए टिकट खिड़की तक पहुंचने की कोशिश करने लगे। मगर पुलिस वालों की नजर पड़ गई और फिर पिटाई भी ऐसी हुई कि जॉनी उस पुलिस वाले को ये चैलेंज दे आए कि एक दिन इसी टाकीज में मेरी फिल्म लगेगी और जिंदा रहे तो तुम्हें मैं वो फिल्म दिखाऊंगा। बाद में जब इस टाकीज में उनकी एक्ट की हुई 'हथियार' लगी तो जॉनी ने उस पुलिस वाले को तलाशा लेकिन वो नहीं मिला।
'ऐसा काम करेगा जो हमारे खानदान में किसी ने नहीं किया' :- ठीकरी के एक गांव कुंदामाल जसोपुरा में जन्में जॉनी के जन्म के समय ही दादा ने घोषणा कर दी थी कि ये लड़का कुछ ऐसा करेगा जो हमारे खानदान में कभी किसी ने नहीं किया हो। दरअसल पुलिस वाले को दिए गए चैलेंज को जॉनी तमाम कोशिशों के बावजूद भूल नहीं पा रहे थे। इस बीच उन्होंने इंदौर में 'गवर्नमेंट आर्ट्स एंड कॉमर्स कॉलेज' से एमकॉम भी कर लिया था और हस्तशिल्प कॉर्पोरेशन में उनका परमानेंट जॉब भी लग गया था। जॉब करते-करते भी जॉनी के मन में फिल्मों में किस्मत आजमाने की धुन लगी हुई थी और उन्होंने उसे पूरा किया।

No comments:

Post a Comment

Pages