मध्‍यप्रदेश के वकील कल किसी अदालत में नहीं करेंगे पैरवी - .

Breaking

Monday, 11 February 2019

मध्‍यप्रदेश के वकील कल किसी अदालत में नहीं करेंगे पैरवी

मध्‍यप्रदेश के वकील कल किसी अदालत में नहीं करेंगे पैरवी


प्रदेश सहित देश के 1 लाख वकील मंगलवार 12 फरवरी को किसी भी अदालत में पैरवी करने नहीं जाएंगे। यह निर्णय बार कौंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) के राष्ट्रव्यापी आह्वान के आधार पर लिया गया है।
सोमवार को हाईकोर्ट बार के सिल्वर जुबली सभागार में प्रेस-कॉफ्रेंस में उक्त जानकारी दी गई। बीसीआई की एमपी स्टेट स्टीयरिंग कमेटी के संयोजक व हाईकोर्ट बार अध्यक्ष आदर्शमुनि त्रिवेदी ने बताया कि बीसीआई ने पूरे देश के वकीलों से मूलभूत मांगों को लेकर न्यायिक कार्य से विरत रहने की अपील की है।  सुविधा, ई-लाइब्रेरी, इंटरनेट सुविधा, अधिवक्ताओं व उनके परिवारों के सदस्यों के बीमा, 5 वर्ष की प्रैक्टिस वाले कनिष्ठ अधिवक्ताओं के लिए 10 हजार प्रतिमाह तक की राशि का भुगतान व उनके आश्रितों के लिए असामयिक मृत्यु या शारीरिक अक्षमता, दिव्यांगता, किसी रोग या दुर्घटना की स्थिति में आर्थिक सहायता और इन सभी के लिए केन्द्रीय बजट में 5 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया जाना चाहिए

अधिवक्ता सुरक्षा अधिनियम सहित अन्य मांगें जोड़ी गईं- अधिवक्ता संजय वर्मा, उदयन तिवारी, आशीष त्रिवेदी, प्रशांत अवस्थी, अमित जैन व सीएम तिवारी ने बताया कि बीसीआई के आह्वान के साथ मध्यप्रदेश स्तर पर कुछ और मांगें जोड़ दी गई हैं। मसलन, अधिवक्ता सुरक्षा अधिनियम शीघ्र लागू किया जाए। मौजूदा सरकार जूनियर एडवोकेट्स को 4 हजार रुपए प्रतिमाह राशि प्रदान करे।
एमपी हाईकोर्ट अधिवक्ता अधिनियम-1961 की धारा- 34 (1) के तहत अधिकारों का उपयोग कर हड़ताल, न्यायिक कार्य से विरत रहने की स्थिति में हाईकोर्ट बार या स्टेट बार कौंसिल सहित अन्य अधिवक्ता संघों के पदाधिकारियों को प्रथम स्थिति में एक माह द्वितीय स्थिति में 2 माह और तृतीय स्थिति में 3 माह के लिए पूरे प्रदेश में किसी भी अदालत में पैरवी से वंचित न करें। मद्रास हाईकोर्ट के नियमों को भी निरस्त किया जाए

पीएम व सीएम को ज्ञापन- प्रेस कॉफ्रेंस में बताया गया कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपने के लिए सड़कों पर विरोध-मार्च निकाले जाएंगे। जबलपुर में दोपहर 1 बजे से विरोध-मार्च निकाला जाएगा। सभी सिल्वर जुबली सभागार में एकत्र होंगे। इसके बाद कलेक्ट्रेट की तरफ कूच करेंगे।

No comments:

Post a Comment

Pages