नए ग्राहक जोड़ने की कवायद, RBI से मंजूरी के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने फिर शुरू की KYC - .

Breaking

Thursday, 3 January 2019

नए ग्राहक जोड़ने की कवायद, RBI से मंजूरी के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने फिर शुरू की KYC

नए ग्राहक जोड़ने की कवायद, RBI से मंजूरी के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने फिर शुरू की KYC

आरबीआई से अनुमति मिलने के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने एक बार फिर केवाईसी (know your customer) की प्रक्रिया शुरू कर दी है। बता दें कि, पिछले साल जून में आरबीआई ने अपने एक ऑडिट के बाद पीपीबीएल के केवाईसी करने और नए ग्राहक जोड़ने पर रोक लगा दी थी। इस प्रक्रिया के दोबारा शुरू होने से बैंक को नए ग्राहकों को जोड़ने में मदद मिलेगी।
एक रिपोर्ट के मुताबिक पीपीबीएल (पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड) की तरफ से जारी किए गए बयान में बताया गया है कि, ग्राहक अब सेविंग और करंट एकाउंट दोनों खोल सकेंगे। बता दें कि, पेमेंट बैंक अभी तक 1 रुपए से लकेर एक लाख तक की ही डिपॉजिट स्वीकार कर सकते हैं। बयान में यह भी कहा गया है कि, पेटीएम साल 2019 के खत्म होने तक 10 करोड़ नए ग्राहक जोड़ना चाहता है।

कब शुरू की थी सर्विस :- पेटीएम ने साल 2017 में पेमेंट बैंक की सर्विस की शुरुआत की थी। पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा के पास पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड में सबसे ज्यादा शेयर्स हैं। इसके बाद अलीबाबा की कंपनी 'One 97 कम्युनिकेशन' का नंबर आता है। हालांकि, अलीबाबा के पास डायरेक्ट शेयर होल्डिंग नहीं है।
ऑडिट के बाद बंद हुई थी केवाईसी :- बता दें कि, आरबीआई की ओर से ऑडिट के बाद बैंक की केवाईसी प्रक्रिया पर सवाल उठाए गए थे। इसके बाद पिछले साल जून में इसे नए ग्राहक जोड़ने से रोक दिया गया था। इसके बाद जुलाई में चीफ एग्जीक्युटिव ऑफिसर रेनू सत्ती ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। उनके बाद बैंक ने अक्टूबर में दिग्गज बैंकर सतीश गुप्ता को अपना मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ नियुक्त किया था।

पीपीबीएल ने ताजा बयान में कहा है कि, पीपीवीएल को नए ग्राहक जोड़ने और बैंक-वॉलिट ग्राहकों के लिए केवाईसी फिर शुरू करने के लिए रिजर्व बैंक से आधिकारिक मंजूरी मिल गई है। मंजूरी मिलने के बाद 31 दिसंबर 2018 से इसकी शुरुआत भी हो गई है। गुप्ता ने कहा कि, पीपीबीएल सभी भारतीय तक बैंकिंग सेवाएं मुहैया कराने के मिशन पर है। 

No comments:

Post a comment

Pages