पटरियों पर घायल कराहता रहा और ट्रेन गुुजरती रहीं, बाद में अस्पताल में कर दिया मृत घोषित - .

Breaking

Monday, 21 January 2019

पटरियों पर घायल कराहता रहा और ट्रेन गुुजरती रहीं, बाद में अस्पताल में कर दिया मृत घोषित

पटरियों पर घायल कराहता रहा और ट्रेन गुुजरती रहीं, बाद में अस्पताल में कर दिया मृत घोषित

गुलाबगंज रेलवे स्टेशन के संतापुर गेट के पास अज्ञात ट्रेन से गिरा एक युवक घायल अवस्था में पटरियों पर पड़ा रहा और उसके ऊपर से ट्रेन गुजर गईं। इसके बाद सूचना मिलने पर 108 एंबुलेंस पहुंची और गंभीर रूप से घायल अवस्था में उसे गुलाबगंज अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन वहां कोई डाक्टर नहीं मिला। करीब आधे घंटे बाद पहुंची नर्स ने युवक को मृत घोषित कर दिया। मृतक युवक के पास मिले टिकट से पता चला कि वह लखनऊ से मुंबई तक की यात्रा कर रहा था। फिलहाल जीआरपी पुलिस ने अज्ञात के रूप में उसका पीएम कराकर जिला अस्पताल के मरचुरी रूम में रखवा दिया है।
गुलाबगंज थाना प्रभारी रविकांत डेहरिया ने बताया कि सूचना मिलने पर वह घटना स्थल पहुंचे थे। जहां पर एंबुलेंस से युवक को अस्पताल पहुंचाया। उन्होंने वहां मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से बताया कि युवक बीच ट्रैक पर घायल अवस्था में पड़ा था। उसी दौरान एक ट्रेन उसके ऊपर से गुजर गई। इसके बाद एंबुलेंस से जब उसे गंभीर हालत में अस्पताल पहुंचाया तो वहां मौके पर डाक्टर मौजूद नहीं था।
करीब आधे घंटे बाद पहुंची नर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि मृतक के पास से मिले मोबाइल से संपर्क कर उसके परिजनों को सूचना दी गई है। थाना प्रभारी के मुताबिक मृतक की पहचान 35 वर्षीय गोंडा उत्तरप्रदेश निवासी रामविजय के रूप में हुई है। वह पुष्पक एक्सप्रेस से लखनऊ से मुंबई जा रहा था।
जीआरपी ने बताया अभी अज्ञात है :- इधर जीआरपी थाने के एएसआई मेहरवानसिंह ने बताया कि मृतक के पास मिले मोबाइल से उसके परिजनों को सूचना दी गई है। इसके बाद मृतक के बहनोई का दोस्त भोपाल से आया था, लेकिन जब तक परिजन शव की शिनाख्त नहीं करते तब तक वह अज्ञात ही माना जाएगा। उन्होंने गुलाबगंज थाने में शव का पीएम कराकर जिला अस्पताल के मरचुरी रूम में रखवा दिया है।
आधे घंटे बाद पहुंची डाक्टर :- इस संबंध में अस्पताल प्रभारी डॉ. निधि श्रीवास्तव का कहना है कि नाइट ड्यूटी पर डॉ. एमके ओस्टवाल तैनात थे। उनकी ड्यूटी 8 बजे खत्म होती इससे पहले ही वह निकल गए थे। जबकि वह स्वयं ड्यूटी के हिसाब से 8 बजे अस्पताल पहुंच गई थीं। लेकिन घायल युवक को वहां कुछ देर पहले लाया गया था। अस्पताल में ना तो नर्स थी और ना ही डाक्टर, इस सवाल पर उनका कहना था कि ड्यूटी चेंज का समय होने के कारण मौके पर कोई मौजूद नहीं मिला।

No comments:

Post a Comment

Pages