खरी-खरी सुनाती रहीं यशोधरा, हाथ जोड़े खड़े रहे मंत्री राजपूत और वरिष्ठ कांग्रेसी - .

Breaking

Sunday, 20 January 2019

खरी-खरी सुनाती रहीं यशोधरा, हाथ जोड़े खड़े रहे मंत्री राजपूत और वरिष्ठ कांग्रेसी

खरी-खरी सुनाती रहीं यशोधरा, हाथ जोड़े खड़े रहे मंत्री राजपूत और वरिष्ठ कांग्रेसी

शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया का रविवार को कटोराताल के पास स्वर्गीय माधवराव सिंधिया की समाधि स्थल पर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत से आमना-सामना हो गया। हमेशा अपने बयानों व व्यवहार से सुर्खियों में रहने वाली यशोधरा समाधि स्थल पर कांग्रेसियों की भीड़ और झंडे देख आवेशित हो गईं। उन्होंने मंत्री सहित अन्य वरिष्ठ कांग्रेसियों को खरी-खरी सुना डाली। विधायक खरी-खरी सुनाती रहीं और मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेसी हाथ जोड़े खड़े रहे।
रविवार सुबह राजस्व व परिवहन मंत्री समाधि स्थल पर पुष्पांजलि अर्पित करने पहुंचे थे। वे समाधि से बाहर निकले ही थे कि वहां यशोधरा भी पहुंच गईं। उनकी कार समाधि स्थल के ठीक सामने तक जाना थी, लेकिन कांग्रेसियों की भीड़ में उनकी गाड़ी फंसी रही। कार से उतरकर वे समाधि स्थल की ओर जाने लगीं तो मंत्री राजपूत, जिलाध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, अशोक शर्मा, लतीफ खां, सुरेन्द्र परमार चच्चू, सुरेन्द्र शर्मा, धर्मेन्द्र शर्मा ने हाथ जोड़कर उनका अभिवादन किया।
इस पर यशोधरा आवेशित हो गईं। उन्होंने कहा कि यह कौन सी संस्कृति है। यह समाधि स्थल है और आप लोग झंडे लेकर भीड़ के साथ यहां खड़े हैं। शांति स्थल पर शोर कर रहे हैं। मेरी गाड़ी भी यहां नहीं आ सकी। यशोधरा के तेवर देख मंत्री राजपूत और कांग्रेसी हाथ जोड़कर, गर्दन नीचे कर सुनते रहे। बाद में उन्होंने मंत्री राजपूत से बेस्ट ऑफ लक कहा और आगे बढ़ गईं।उनके तेवर से वहां सन्नाटा पसर गया।

शायद पवैया के पूर्वज पानीपत की लड़ाई में नहीं लड़े :- मीडिया ने जब यशोधरा से मंत्री को नसीहत देने का सवाल किया तो उन्होंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है। प्लीज, मैं पॉलीटिक्स नहीं करती, खासतौर पर यहां। जब उनसे पूछा गया कि पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया हमेशा श्रीमंत शब्द को लेकर आपत्ति जताते रहे हैं। इस पर पहले तो उन्होंने बोलने से मना कर दिया, लेकिन फिर कहा कि शायद उनके पूर्वज पानीपत की लड़ाई में नहीं लड़े, उन्हें जो कहना हैं कहें। ग्वालियर से लोकसभा चुनाव लड़ने की अटकलों के सवाल को उन्होंने यह कहकर टाल दिया कि यहां तो सांसद हैं हीं।
देश में बेहतर होगी बस सेवा :-  परिवहन निगम को तो अस्तित्व में नहीं लाया जाएगा, क्योंकि यह घाटे का सौदा रहा है, लेकिन प्रदेश में बस सेवा को बेहतर किया जाएगा। राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने मीडिया से चर्चा के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा कि इसी माह प्राइवेट बस ऑपरेटरों, स्मार्ट सिटी की सूत्र सेवा ऑपरेटरों की बैठक बुला रहे हैं।
ग्वालियर व्यापार मेले में टैक्स छूट के सवाल पर उनका कहना था कि मेले का नाम पूरे देश में प्रसिद्ध था। लेकिन भाजपा सरकार ने शायद दुर्भावना के कारण इसकी रौनक खत्म करने टैक्स में छूट बंद कर दी। इससे व्यापारियों व जनता को दु:ख हुआ। लेकिन सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रयासों से मुख्यमंत्री ने यह टैक्स छूट फिर शुरू कर दी। अब यह मेला फिर अपने पुराने वैभव की ओर लौटेगा। मंत्री ने हर हल्के में एक पटवारी की नियुक्ति का भरोसा दिया और किसानों की समस्याओं के निराकरण के लिए 16 फरवरी से प्रदेश भर में राजस्व लोक अदालतें लगाने की बात कही। भाजपा नेताओं के कथन 'जल्द ही कांग्रेस सरकार गिर जाएगी" के सवाल पर वे बोले- भाजपा नेता अहंकार की भाषा अभी भी बोल रहे हैं। जनता इस पार्टी के दो अहंकारी नेताओं मोदी और अमित शाह का अहंकार भी जल्द खत्म करने जा रही है।

No comments:

Post a Comment

Pages