भीड़ भरे बाजार में छिपे थे खूंखार बदमाश, दो को लूटा तब पुलिस को पता चला - .

Breaking

Thursday, 31 January 2019

भीड़ भरे बाजार में छिपे थे खूंखार बदमाश, दो को लूटा तब पुलिस को पता चला

भीड़ भरे बाजार में छिपे थे खूंखार बदमाश, दो को लूटा तब पुलिस को पता चला

नए साल के पहले महीने में लुटेरों ने पुलिस की नाक में दम कर दिया। जनवरी में एक दिन छोड़कर शहर में लूट की 19 वारदात हो चुकी हैं। नए डीआईजी ने थानास्तर पर पुलिसकर्मियों को निर्देश दिए हैं बावजूद बदमाशों की धरपकड़ नहीं हो रही है। पुलिस की सुस्ती के चलते बदमाशों ने मंगलवार रात को सेमरा के रास्ते पर दो लोगों को मारपीट कर लूट लिया। जब डीआईजी ने वायरलैस सेट पर जमकर फटकारा तब पुलिसकर्मी जागे और बुधवार को तीनों लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया। पता चला कि ये हत्या, हत्या की कोशिश और लूट जैसे आपराधिक मामलों के खूंखार बदमाश हैं, जो बजरिया में पहले से सक्रिय थे, लेकिन पुलिस को इनकी भनक तक नहीं लगी थी। बजरिया काफी सघन इलाका है,लेकिन बदमाश यहां छिपकर शहरभर में वारदात कर रहे हैं, इसकी भनक पुलिस को नहीं थी।

जानकारी के अनुसार द्वारका नगर निवासी 32 वर्षीय नीरज रैकवार अपने दोस्त विकास मालवीय के साथ मंगलवार शाम सात बजे सेमरा जा रहे थे। रास्ते में शनि मंदिर चांदबड़ में रुके और चाय पीने लगे। तभी तीन युवक आए और छूरी अड़ाकर लात-घूंसों से मारपीट करने लगे। पीड़ितों से बदमाश दो मोबाइल फोन, छह हजार रुपए और जरूरी कागजात छीनकर फरार हो गए। घटना के बाद पीड़ितों ने थाने से जाकर शिकायत दर्ज कराई थी।
वारदात की जानकारी लगते ही बुधवार सुबह नए डीआईजी इरशाद वली ने वायरलैस सेट पर पुलिस कर्मियों की क्लास लेकर जमकर फटकार लगाई। उन्होंने चेताया कि यह लापरवाही सहन नहीं होगी। तब जाकर बजरिया पुलिस सक्रिय हुई और इलाके में खूंखार बदमाश पेंटर गिरोह के सदस्य विकास उर्फ जितेश ( 20 ) निवासी चांदबड़, उसका सगा भाई जितेन्द्र कुशवाह (21) निवासी चांदबड और एक नाबालिग साथी को गिरफ्तार किया। आरोपितों से लूट का माल भी बरामद कर लिया है।

निगरानीशुदा बदमाश हैं दोनों :- बता दें कि पदभार संभालते ही नए डीआईजी लगातार बैठक कर पुराने बदमाशों के जानकारी जुटाने के निर्देश दे रहे थे। जबकि बजरिया पुलिस को यह पता नहीं था कि विकास और जितेंद्र निगरानी बदमाश इलाके में वारदात कर रहे हैं। ये दोनों आरोपित पूर्व में लूट के आरोपत में गिरफ्तार हो चुके हैं। दोनों के खिलाफ लूूट, हत्या, चोरी और मारपीट के अपराध दर्ज हैं। विकास पर 12 और उसके भाई जितेंद्र पर नौ आपराधिक मामले दर्ज हैं।

No comments:

Post a Comment

Pages