ISRO के GSAT 7A सेटैलाइट से भारत में होगी हाईस्पीड इंटरनेट क्रांति की शुरुआत - .

Breaking

Wednesday, 19 December 2018

ISRO के GSAT 7A सेटैलाइट से भारत में होगी हाईस्पीड इंटरनेट क्रांति की शुरुआत

ISRO के GSAT 7A सेटैलाइट से भारत में होगी हाईस्पीड इंटरनेट क्रांति की शुरुआत
ISRO के अनुसार दिसंबर माह में लॉच होने वाले दोनों ही कम्यूनिकेशन सैटेलाइट देश की संचार व्यवस्था को सुदृढ़ करेगा। इसका सबसे ज्यादा लाभ इंटरनेट यूजर्स को मिलेगा। माना जा रहा है कि इससे इंटरनेट की रफ्तार कई गुना तेज होगी। GSAT 7A भारतीय क्षेत्र में केयू बैंड में उपयोगकर्ताओं को संचार क्षमता प्रदान करेगा। इसरो के अनुसार GSAT 7A सेटेलाइट मिशन की अवधि आठ साल होगी।
ISRO के चेयरमैन के सिवान के मुताबिक, ISRO के चारों थ्रो-पुट सैटेलाइट की मदद से देश की ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी अगले साल तक 100gbps तक पहुंच जाएगी। आपको बता दें कि ISRO GSAT-19 और GSAT-29 सैटेलाइट्स को पहले ही लॉन्च कर चुका है। जबकि GSAT-20 को अगले साल लॉन्च किया जाएगा। इन चारों सैटेलाइट्स के लॉन्च होने के बाद देश में हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी मिलेगी जो देश के ग्रामीण इलाकों को डिजिटल प्लेटफार्म के लिए सशक्त करेगा।
GSAT-7A की मुख्य बातें :- GSAT-7A की मदद से दूरदराज के इलाकों में भी हाथ में पकड़े जाने वाले डिवाइस के अलावा उड़ते डिवाइस के भी कम्यूनिकेट किया जा सकता है। इसका सीधा फायदा एयरफोर्स को मिलेगा। इस सैटेलाइट की मदद से इंटरनेट की स्पीड 100gbps तक पहुंच जाएगी जो कि टेलिकॉम्यूनिकेशन की क्षेत्र में एक क्रांति की तरह ही है।
आपको बता दें कि इस समय दक्षिण कोरिया में सबसे  फास्ट इंटरनेट स्पीड मिलता है। दक्षिण कोरिया में इस समय 28.6mbps की स्पीड से इंटरनेट सेवा दी जाती है। वहीं, भारत का दुनिया में 89वां स्थान है। भारत में इंटरनेट की औसत स्पीड 6.5mbps है। इसरो के चेयरमैन ने कुछ महीने पहले बताया कि भारत सरकार ने 10,990 करोड़ रुपये का बजट अगले चार साल के स्पेस मिशन के लिए अलॉट किया है। इसरो इन 4 सालों में 50 स्पेसक्राफ्ट को लॉन्च करने की तैयारी में है।

No comments:

Post a Comment

Pages