गठबंधन को मजबूत करने में जुटी भाजपा, नाराज लोजपा को मनाया - .

Breaking

Thursday, 20 December 2018

गठबंधन को मजबूत करने में जुटी भाजपा, नाराज लोजपा को मनाया

गठबंधन को मजबूत करने में जुटी भाजपा, नाराज लोजपा को मनाया

2019 की बड़ी लड़ाई में और भी बड़ी जीत का दावा कर रही भाजपा गठबंधन साथियों को एकजुट रखने की कवायद में जुट गई है। इस सिलसिले में थोड़ी नाराज चल रही लोजपा को गुरुवार को यह संदेश दे दिया गया कि उसकी अपेक्षाएं पूरी होंगी। बिहार में उसे लोकसभा की छह सीटें दी जाएंगी। हालांकि, लोजपा की ओर से राज्यसभा की एक सीट और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में भी हिस्सेदारी की बात रखी गई है।
दरअसल, कुछ दिनों पहले ही रालोसपा ने राजग को अलविदा कहा था। गुरुवार को इसने महागठबंधन का हाथ थाम लिया। पिछले दो दिनों से लोजपा के सुर भी बदले हुए थे और परोक्ष रूप से यह संकेत दिया जा रहा था कि अब देर हुई तो उसकी राह खुली है। लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान की ओर से केंद्रीय मंत्रियों को लिखे गए पत्र भी इसका इजहार कर रहे थे कि वह सरकारी योजनाओं के खिलाफ सार्वजनिक बयान देने में भी नहीं चूकेंगे। ऐसी स्थिति में गुरुवार शाम भाजपा भी हरकत में आई।

बिहार के प्रभारी महासचिव भूपेंद्र यादव ने पहले घर जाकर केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और चिराग से मुलाकात की। फिर उन्हें साथ लेकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पास पहुंचे। सूत्रों का कहना है कि वहां सीटों की संख्या तय हो गई। भाजपा और जदयू 17-17 सीटों पर और लोजपा छह सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इस संख्या से लोजपा को भी एतराज नहीं है।
पर सूत्रों की मानें, तो लोजपा एक राज्यसभा सीट भी चाहती है। इस पर तत्काल निर्णय नहीं लिया जा सका है, लेकिन आगे चर्चा का आश्वासन दिया गया है। पिछली बार लोजपा को सात सीटें मिली थीं। इसके अलावा वह कुछ सीटें बदलना भी चाहती है। लोजपा ने उप्र में मांगी हिस्सेदारी बताते हैं कि लोजपा नेतृत्व की ओर से कहा गया कि वह 2019 में और सक्रिय होकर राजग की जीत में शामिल होना चाहता है। लेकिन, उसके लिए यह जरूरी होगा कि उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में उसे भी हिस्सेदारी मिले, ताकि दलितों तक संदेश भी जाए।

संसद सत्र के बाद आखिरी फैसला भाजपा नेतृत्व की ओर से भरोसा दिलाया गया कि सीटों को लेकर आखिरी बातचीत बहुत जल्द होगी। इस बीच संवाद जारी रहेगा। माना जा रहा है कि दिल्ली में ही जदयू, भाजपा और लोजपा के बीच भी एक बैठक होगी। कोशिश यह होगी कि संसद सत्र की समाप्ति के बाद सीट बंटवारा तय कर दिया जाए।

No comments:

Post a Comment

Pages