महंगी किताबों से मिलेगी निजात, हो रही NCERT की 10 करोड़ किताबों की छपाई - .

Breaking

Monday, 22 October 2018

महंगी किताबों से मिलेगी निजात, हो रही NCERT की 10 करोड़ किताबों की छपाई

महंगी किताबों से मिलेगी निजात, हो रही NCERT की 10 करोड़ किताबों की छपाई

महंगी किताबों से राहत दिलाने के लिए सरकार ने ज्यादा से ज्यादा स्कूलों तक एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) की सस्ती किताबों को पहुंचाने की तैयारी की है। अगले शैक्षणिक सत्र से पहले एनसीईआरटी की दस करोड़ किताबें छापने का लक्ष्य रखा गया है।
सरकार ने अपने इस अभियान के तहत पिछले साल करीब छह करोड़ एनसीईआरटी की किताबों का प्रकाशन किया था। जो पिछले साल के मुकाबले करीब तीन गुना अधिक थी। अभी भी निजी स्कूलों में निजी प्रकाशकों की महंगी किताबों को पढ़ाया जाना एक बड़ा मुद्दा है। जिसका बोझ अभिभावकों को उठाना पड़ता है। ऐसे में सरकार ने अपना लक्ष्य बढ़ाया है। इसका एक राजनीतिक पहलू भी है। अगले साल नया शैक्षणिक सत्र शुरू होने के समय सरकार भी चुनाव के मैदान में होगी। ऐसे में यह कोई मुद्दा न बन सके, इसलिए सरकार ने इस अभियान को पूरी ताकत के साथ आगे भी जारी रखने की घोषणा की है।

निजी स्कूलों का अब तक आरोप था, कि एनसीईआरटी की किताबों से वह पढ़ाना तो चाहते हैं, लेकिन किताबें ही उपलब्ध नहीं हो पाती हैं। ऐसे में सरकार निजी स्कूलों के इन आरोपों के जवाब में एनसीईआरटी की किताबों की उपलब्धता बढ़ाने की कोशिशों में जुटी है। पिछले साल यानि वर्ष 2018-19 में सरकार ने इसे लेकर बड़ी कोशिश की। इसके तहत करीब छह करोड़ किताबों का प्रकाशन किया गया। इससे पहले 2017-18 में एनसीईआरटी की करीब दो करोड़ किताबें छापी गई थी। पिछले साल इस अभियान के तहत करीब छह हजार नए सीबीएसई स्कूलों ने एनसीईआरटी की किताबों को अपने यहां लागू किया था। मौजूदा समय में देश में 20 हजार से ज्यादा सीबीएसई स्कूल हैं।

No comments:

Post a comment

Pages