महज सात फीसद रही पहली छमाही में यात्री वाहनों की बिक्री वृद्धि दर - .

Breaking

Friday, 12 October 2018

महज सात फीसद रही पहली छमाही में यात्री वाहनों की बिक्री वृद्धि दर

महज सात फीसद रही पहली छमाही में यात्री वाहनों की बिक्री वृद्धि दर

चालू वित्त वर्ष 2018-19 की पहली छमाही यानी अप्रैल से सितंबर के बीच देश में यात्री वाहनों की बिक्री 6.88 फीसद की मामूली रफ्तार से बढ़ी। जुलाई-तिमाही के दौरान सुस्ती रहने के कारण रफ्तार धीमी पड़ गई। इन संकेतों को देखकर उद्योग संगठन सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) ने चालू वित्त वर्ष के लिए वृद्धि दर अनुमान घटा दिया। उसने उद्योग में रफ्तार धीमी रहने का अनुमान जताया है। सितंबर के दौरान यात्री वाहनों की बिक्री 5.61 फीसद घट गई। चालू वित्त वर्ष में यह सबसे सुस्त महीना रहा। लगातार तीसरे महीने बिक्री में गिरावट दर्ज की गई थी। इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही में बिक्री 3.6 फीसद घट गई।

वाहनों की मांग जुलाई में 2.71 फीसद और अगस्त 2.46 फीसद घटी थी। जबकि अप्रैल-जून तिमाही में बिक्री में 20 फीसद की जोरदार वृद्धि हुई थी। सियाम ने चालू वित्त वर्ष में यात्री वाहनों की बिक्री वृद्धि दर नौ फीसद रहने का अनुमान जताया है जबकि उसने पहले वृद्धि दर 11 फीसद तक रहने की उम्मीद जताई थी। अप्रैल-सितंबर छमाही में कुल 17,44,305 यात्री वाहनों की बिक्री हुई जबकि पिछले साल समान अवधि में 16,32,006 वाहन बिके थे। इस तरह वृद्धि दर महज 6.88 फीसद रही। यह वृद्धि दर कंपनियों की नई लांचिंग और ग्र्रामीण मांग के चलते रही।

सियाम के प्रेसिडेंट रंजन वाढेरा ने बताया कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में यात्री वाहनों की बिक्री वृद्धि दर 6.88 फीसद रही। दूसरी तिमाही में वृद्धि दर सकारात्मक रहने की संभावना है। पूरे वित्त वर्ष में मांग मामूली तौर पर ज्यादा रह सकती है। पूरे वित्त वर्ष में पहले 9-11 फीसद वृद्धि दर का अनुमान था लेकिन अब यह रफ्तार नौ फीसद तक रहने की संभावना है। उम्मीद है कि दूसरी तिमाही में मांग त्योहारी सीजन में सुधर जाएगी।
इसके अलावा ग्र्रामीण क्षेत्रों से अच्छी मांग बनी रहने की संभावना है। सियाम के अनुसार अप्रैल-सितंबर के दौरान यात्री वाहनों का निर्यात 2.96 फीसद घट गया। इस दौरान 349,951 वाहनों का निर्यात किया गया।

No comments:

Post a Comment

Pages