एनटीपीसी में कोल संकट से उत्पादन प्रभावित, जायजा लेने पहुंचे सीआईएल के चेयरमैन - .

Breaking

Friday, 19 October 2018

एनटीपीसी में कोल संकट से उत्पादन प्रभावित, जायजा लेने पहुंचे सीआईएल के चेयरमैन

एनटीपीसी में कोल संकट से उत्पादन प्रभावित, जायजा लेने पहुंचे सीआईएल के चेयरमैन

नेशनल थर्मल पॉवर कार्पोरेशन लिमिटेड (एनटीपीसी) में कोयला का संकट लगातार बना हुआ है, इसे दूर करने का प्रयास तेज हो गया है। शुक्रवार को कोल मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेटरी समेत एनटीपीसी के चेयरमैन गुरदीप सिंह और कोल इंडिया लिमिटेड (सीआइएल) के चेयरमैन एके झा ने छत्तीसगढ़ के कोरबा स्थित गेवरा, दीपका खदान के साथ ही एनटीपीसी कोरबा प्लांट का जायजा लिया। इस दौरान अफसरों ने कोयला आपूर्ति बढ़ाने के संदर्भ में आवश्यक जानकारी लेते हुए अधिकारियों को निर्देशित किया।
अफसरों ने कहा कि कोयला की कमी से पावर प्लांट के समक्ष विषम परिस्थिति निर्मित न हो, इसका पूरा ध्यान रखा जाए। कोल मंत्रालय के डिप्टी सेक्रेटरी ने एसईसीएल एवं एनटीपीसी को कोयला आपूर्ति सतत्‌ बनाए रखने हेतु आपसी सामंजस्य से कार्य करने पर जोर दिया।उल्लेखनीय है कि कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने केंद्र एवं राज्य शासन के पावर प्लांट में कोयला आपूर्ति नियमित रूप से बनाए रखने पर जोर देते हुए कोल इंडिया से कहा है कि किसी भी प्लांट में कोयला की कमी न होने पाए। गुणवत्तायुक्त कोयला प्रदान करने से पावर प्लांट का संचालन बेहतर ढंग से होगा। इसके साथ ही सीआइएल का निर्धारित लक्ष्य के मुताबिक 652 एमटी कोयला उत्पादन करने कहा गया है।
गेवरा से दो पॉवर प्लांट को कोयला की आपूर्ति :- एसईसीएल की गेवरा, दीपका खदान से एनटीपीसी के कोरबा एवं सीपत में कोयला आपूर्ति किया जाता है। इसके साथ ही अन्य प्रदेश में स्थित एनटीपीसी के संयंत्र में भी कोयला आपूर्ति किया जाता है। पिछले कुछ अरसे से कोरबा व सीपत प्लांट में कोयला का संकट बना हुआ है। जितना कोयला खदान से पहुंच रहा है, उतना खपत हो जा रहा है। इससे निपटने की कवायद उच्च स्तर शुरू कर दिया गया है।

No comments:

Post a comment

Pages