मोबाइल से हो जाएं सावधान, ज्यादा इस्तेमाल से बच्चों में बढ़ रहा जोड़ों का दर्द - .

Breaking

Saturday, 13 October 2018

मोबाइल से हो जाएं सावधान, ज्यादा इस्तेमाल से बच्चों में बढ़ रहा जोड़ों का दर्द

मोबाइल से हो जाएं सावधान, ज्यादा इस्तेमाल से बच्चों में बढ़ रहा जोड़ों का दर्द

जोड़ों मे दर्द या आर्थराइटिस की समस्या जो पहले 50 साल की उम्र के बाद ही ज्यादा देखने को मिलती थी, बदलती लाइफ स्टाइल के चलते अब कम उम्र के लोगों को भी तेजी से चपेट में ले रही है। विशेषज्ञों के अनुसार आर्थराइटिस की समस्या का अगर समय रहते इलाज नहीं कराया गया तो स्थायी रूप से जोड़ टेढ़े हो सकते हैं। शहर में पिछले 10 से 15 वर्षों में मरीजों की संख्या 5-6 गुना बढ़ी है। सबसे ज्यादा ऑस्टियो आर्थराइटिस के मरीज हैं। यह मुख्यत: 50 साल के बाद होने वाली बीमारी है। आजकल 40 से कम उम्र में भी लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। वजन बढ़ने से महिलाएं ज्यादा इसका शिकार होती हैं। इसमें घुटने के कार्टिलेज घिस जाते हैं।
डॉ. अक्षत पांडेय के अनुसार लोग सोचते हैं कि उम्र के साथ जोड़ खराब होते ही हैं, लेकिन यह गलत सोच है। अगर आपको सुबह उठकर चलने में या काम शुरू करने में कुछ देर भी दर्द महसूस हेता है तो उसे अनदेखा मत करिए। आर्थराइटिस के मरीज के लिए सबसे जरूरी है वजन पर नियंत्रण रखना। सही समय पर पता चलने पर हर तरह की आर्थराइटिस को नियंत्रित किया जा सकता है।
पांच साल के बच्चों में हो रहा आर्थराइटिस :- सबसे ज्यादा ऑस्टियो आर्थराइटिस के केस हैं। पूरे देश में 15 फीसदी लोग इससे प्रभावित हैं। डॉ. वीपी पांडेय के अनुसार आर्थराइटिस की समस्या हमेशा से रही है। चिकिनगुनिया की वजह से भी कुछ मरीजों में गठिया के लक्षण देखने को मिल रहे हैं। रुमेटाइड आर्थराइटिस 30 से 40 की उम्र के लोगों में होती है, लेकिन जुवेनाइल आर्थराइटिस पांच साल के बच्चे में भी हो सकती है। आजकल बच्चों में जोड़ों के दर्द की समस्या बढ़ने की वजह यह है कि वे लंबे समय तक मोबाइल का उपयोग एक ही पोजिशन में बैठकर करते रहते हैं।
यहां तक कि सोते भी एक ही पोजिशन में हैं। सुबह उठने का समय लगातार बढ़ता जा रहा है। अब फिजिकल एक्सरसाइज बहुत कम होती जा रही है। विटामिन डी और कैल्शियम की कमी से मांसपेशियों की ताकत कम हो जाती है और हड्डियों पर जोर पड़ता है। आजकल हाईप्रोफाइल लोगों में सीडेंट्री लाइफ स्टाइल, जंकफूड, स्मोकिंग और अल्कोहल आदि का सेवन करने से शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने की वजह से गाउट आर्थराइटिस की समस्या भी बढ़ रही है।

No comments:

Post a Comment

Pages