भोपाल में दावेदारी और विरोध जताने भाजपा दफ्तर पहुंचे कार्यकर्ता, नारेबाजी और हंगामा - .

Breaking

Monday, 22 October 2018

भोपाल में दावेदारी और विरोध जताने भाजपा दफ्तर पहुंचे कार्यकर्ता, नारेबाजी और हंगामा

भोपाल में दावेदारी और विरोध जताने भाजपा दफ्तर पहुंचे कार्यकर्ता, नारेबाजी और हंगामा

मध्यप्रदेश में नवंबर में होने वाले चुनावी दंगल की तारीख नजदीक आते ही भाजपा मुख्यालय में नारेबाजी और हंगामों का दौर शुरू हो गया है। कई विधानसभा क्षेत्रों के नेता भारी भीड़ लाकर शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं तो कई विधायकों की टिकट कटवाने के लिए कार्यकर्ताओं की भीड़ नारेबाजी और हंगामा कर रही है।
सोमवार को जब पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल चुनाव प्रबंधन को लेकर दीनदयाल परिसर में दिग्गज नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे थे, तभी टिकट मांगने और टिकट कटवाने के लिए बाहर नारेबाजी हो रही थी। भाजपा के वरिष्ठ नेता और ऊर्जा विकास निगम के चैयरमैन विजेंद्र सिंह सिसोदिया के बेटे देवेंद्र सिंह सिसोदिया ने तो दो हजार से ज्यादा समर्थक के साथ भाजपा कार्यालय आकर शुजालपुर से टिकट की दावेदारी की।
सिसोदिया के समर्थकों की सैकड़ों गाड़ियों के कारण भाजपा कार्यालय, हबीबगंज स्टेशन, सात नंबर चौराहे से लेकर आसपास घंटों जाम लगा रहा। आचार संहिता के बावजूद सिसोदिया ने बिना अनुमति के वाहन रैली निकाली। साधु-संतों ने भी भाजपा कार्यालय आकर अपने भक्त राजेन्द्र सिंह राजपूत के लिए शुजालपुर से टिकट मांगा। उन्होंने सिंह के गौ-सेवा का हवाला देकर कहा कि गौ-सेवकों को भी टिकट मिलना चाहिए।खिलचीपुर विधायक हजारीलाल दांगी के विरोध में बहुत सारे कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय पहुंचे। हाथ में बैनर-पोस्टर लिए ये कार्यकर्ता दांगी को टिकट नहीं दिए जाने की मांग कर रहे थे।

मौजूदा विधायक दांगी पर उन्होंने जमीन हड़पने सहित कई तरह के आरोप लगाए। विधायक के बेटे पर अवैध खनन का आरोप भी लगाया गया। कुछ दिन पहले यही विधायक दांगी समाज के लोगों के साथ भाजपा कार्यालय आए थे और समाज को और ज्यादा टिकट दिए जाने की मांग की थी। बैतूल के भाजपा विधायक हेमंत खंडेलवाल का विरोध करने के लिए भारी तादाद में लोग भाजपा कार्यालय पहुंचे। ये लोग खंडेलवाल की टिकट काटकर किरार समाज के व्यक्ति को दिए जाने की मांग कर रहे थे।
गुलाब मायवाड़ के नेतृत्व में आए लोगों ने भाजपा नेताओं से कहा कि बैतूल में ओबीसी वर्ग बड़ी तादाद में है जबकि वहां हमेशा टिकट हेमंत खंडेलवाल को दी जाती है। उन्होंने आरोप लगाया कि विधायक ने क्षेत्र के विकास में कोई काम नहीं किया। जनता इनसे परेशान है। खंडेलवाल भाजपा के कोषाध्यक्ष भी हैं। सिवनी जिले के केवलारी विधानसभा क्षेत्र से संत मदन मोहन खड़ेश्वर महाराज ने टिकट मांगा। वे भी अपने समर्थन में संतों को लेकर आए थे। खड़ेश्वर महाराज ने कहा कि भाजपा ने नर्मदा यात्रा निकाली है, इसलिए नर्मदा सेवक को टिकट दिया जाए। गौरतलब है कि कम्प्यूटर बाबा ने भी खड़ेश्वर महाराज के लिए टिकट की मांग की थी। 
खिलचीरपुर के विधायक हजारीलाल दांगी का विरोध करने के लिए लोग दीनदयाल परिसर आए और नारेबाजी की तो पार्टी के वरिष्ठ नेता विजेंद्र सिंह सिसोदिया ने उनकी बात सुनी। सिसोदिया ने उन्हें हंगामा नहीं करने के लिए समझाइश भी दी और वरिष्ठ नेताओं के सामने उनकी बात रखने का आश्वासन भी दिया। शुजालपुर से टिकट की दावेदारी करने के लिए जब अपने हजारों समर्थकों के साथ विजेंद्र सिंह सिसोदिया के बेटे देवेंद्र सिंह सिसाोदिया पहुंचे तो उन्हें समझाइश देने के बजाय शक्ति प्रदर्शन में पिता विजेंद्र सिंह भी बेटे के साथ हो लिए। वे 'शुजालपुर में अबकि बार देवेद्र भैया की सरकार" के नारे लगा रहे थे।

No comments:

Post a comment

Pages