रामपाल को हत्या के एक और मामले में मिली उम्रकैद - .

Breaking

Wednesday, 17 October 2018

रामपाल को हत्या के एक और मामले में मिली उम्रकैद

रामपाल को हत्या के एक और मामले में मिली उम्रकैद

बुधवार को यहां की एक विशेष अदालत ने सतलोक आश्रम के संचालक रामपाल को हत्या के एक और मामले में भी उम्रकैद की सजा ही सुनाई है। कोर्ट ने मामले में रामपाल सहित 14 दोषियों के खिलाफ सजा का ऐलान किया। प्रत्‍येक दोषी पर दो लाख पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। मंगलवार को इसी अदालत ने रामपाल सहित 15 लोगों को हत्‍या के एक मामले में आजीवन करावास की सजा सुनाई थी। मंगलवार को भादसं की जिन धाराओं के तहत सजा सुनाई गई थी आज के मामले में भी उन धाराओं के तहत ही सजा सुनाई गई।

अदालत ने प्रत्‍येक दोषी पर दो लाख पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया :- अदालत ने मंगलवार की तरह ही एफआइआर नंबर 430 मामले में भी दोषियों को सजा सुनाई। अदालत ने भादसं की धारा 302 के तहत आजीवन कारावास और एक-एक लाख रुपये का जुर्माना किया है। भादसं की धारा 120बी में आजीवन कारावास व एक-एक लाख रुपये जुर्माना और धारा 343 के तहत दो साल की कैद और पांच-पांच हजार रुपये का जुर्माना किया गया है। सभी सजाएं साथ चलेंगी।
आज जिन लोगों को सजा सुनाई गई उनमें छह ऐसे हैं जिनको पहले मामले में भी सजा सुनाई गई थी। मंगलवार को एफआइअार नंबर 429 के मामले में सजा सुनाई गई थी। मंगलवार को विशेष अदालत के जज अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश देसराज चालिया ने सजा सुनाई थी। आज भी वह ही सजा का ऐलान करेंगे। पहले मामले में रामपाल सहित 15 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई। हरेक पर अलग-अलग दो लाख और पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। कोर्ट ने हत्‍या के दो मामले में रामपाल सहित 23 लोगों को 11 अक्‍टूबर को दोषी क़रार दिया था रामपाल और अन्‍य दोषियों को सजा सुनाए जाने के बाद उनके वकीलों ने कहा कि दोनों मामलों में सुनाए गई सजा को वे पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में चुनौती देंगे। उन्‍होंने कहा कि कोर्ट के आदेश की प्रति मिलते ही इस दिशा में तैयारी शुरू कर देंगे।
एफआईआर नंबर 429 :- सोनीपत के धनाना निवासी रामपाल, रोहतक के शास्त्री नगर निवासी बेटा बिजेंद्र उर्फ वीरेंद्र, हिसार के उगालन निवासी भानजा जोगेंद्र उर्फ बिल्लू, हिसार की लक्ष्मी विहार कालोनी निवासी बबीता, भिवानी के नाथूवास निवासी बहन पूनम, जींद की इंपलाय कालोनी निवासी मौसी सावित्री, गुरुग्राम के सिकंदरपुर निवासी देवेंद्र, सूरत नगर निवासी अनिल,सिरसा के धिगतानिया निवासी जगदीश, पानीपत के मच्छरौली निवासी कुशल सिंह, भिवानी के इमलौटा निवासी प्रीतम उर्फ राज कपूर, सोनीपत के भड़गांव निवासी राजेंद्र, जींद के कंडेला निवासी सतबीर, अमरहेड़ी निवासी सोनू दास और सिरसा के भेरवाल निवासी सुखबीर।

एफआईआर नंबर 430 :- इस मामले में रामपाल, उसके बेटे व भानजे के अलावा हिसार की लक्ष्मी विहार कालोनी निवासी बबीता, भिवानी के इमलौटा निवासी प्रीतम उर्फ राज कपूर, सोनीपत के भड़गांव निवासी राजेंद्र, झज्जर के बिरहाना निवासी कृष्ण कुमार, हिमाचल प्रदेश के किन्नौर के रिब्बा निवासी बलवान, तकसाल निवासी पवन, सोलन के डिरग गांव निवासी राजीव शर्मा, राजस्थान के सुमेरपुर उपमंडल के गांव पूमावास निवासी राजेश उर्फ रमेश, ओगना के नरसिंहपुरा निवासी नटवरलाल उर्फ लक्ष्मण, सवाई माधोपुर के सूर्य नगर कालोनी निवासी राजेश और कुरुक्षेत्र के बोराना निवासी रामचंद्र को दोषी करार दिया गया है।

देशद्रोह का मुकदमा बाकी :- सतलोक आश्रम संचालक रामपाल पर सबसे बड़ा मुकदमा एफआईआर नंबर 428 में देशद्रोह का है। इसमें रामपाल सहित 930 से ज्यादा आरोपित हैं। इसकी सुनवाई भी सेंट्रल जेल एक में चल रही है। एफआईआर नंबर 443 में भी अभी सुनवाई चल रही है।

No comments:

Post a comment

Pages