हाईकोर्ट देखेगा 'लव रात्रि' का प्रोमो, फिर होगा बैन पर विचार - .

Breaking

Thursday, 20 September 2018

हाईकोर्ट देखेगा 'लव रात्रि' का प्रोमो, फिर होगा बैन पर विचार

हाईकोर्ट देखेगा 'लव रात्रि' का प्रोमो, फिर होगा बैन पर विचार

हिन्दी फिल्म 'लव रात्रि' को लेकर गुजरात हाईकोर्ट ने फिल्म निर्माता सलमान खान के प्रोडक्शन हाउस से जवाब देने को कहा है। 'लव रात्रि' फिल्म नवरात्रि व गुजरात के गरबा उत्सव पर आधारित है जिससे हिन्दू समाज की भावना को आहत करने वाला बताते हुए इसके खिलाफ जनहित याचिका दाखिल की गई है। गुजरात उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश आर एस रेड्डी व न्यायाधीश वी एम पंचोली की खंडपीठ ने सनातन फाउण्डेशन की याचिका पर सुनवाई करते हुए जहां फिल्म 'लव रात्रि' के प्रोडक्शन हाउस को जवाब पेश करने को कहा। वहीं याचिकाकर्ता को सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सेंसर बोर्ड) के समक्ष अपनी आपत्ति दर्ज कराने को कहा चूंकि फिल्मों के संबंध में अधिकृत संस्था वही है।
हाईकोर्ट 'लव रात्रि' के प्रोमो को देखने के बाद इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने के बारे में विचार करेगा। उधर सलमान खान ने एक ट्वीट करके फिल्म 'लव रात्रि' का नाम बदलकर 'लव यात्री' करने का ऐलान किया जिस पर आपत्ति जताते हुए याचिकाकर्ता ने अदालत को बताया कि यह फिल्म हिन्दु समुदाय की भावना को आहत करने वाली है तथा फिल्म का बदला नाम भी वैसी ही अनुभूति कराता है, चूंकि यह फिल्म नवरात्रि व गरबा उत्सव पर अाधारित है जिससे हिन्दु समाज की भावना आहत होती है इसलिए इसके प्रदर्शन पर रोक लगाई जानी चाहिए।
उनका दावा है कि अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर कलाकार व फिल्म निर्माता लोगों की भावनाओं को आहत कर नकारात्मक प्रचार पाते हैं ताकि फिल्म का प्रचार हो ओर अधिक कमाई की जा सके। आगामी गुरुवार को फिल्म पर सुनवाई होगी, विवादास्पद फिल्म 5 अक्टूबर को रिलीज होगी।

No comments:

Post a Comment

Pages