दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में लहराया ABVP ने जीत का परचम - .

Breaking

Thursday, 13 September 2018

दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में लहराया ABVP ने जीत का परचम

दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में लहराया ABVP ने जीत का परचम

दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय छात्र संघ चुनाव परिणामों की घोषणा कर दी गई है। इसमें एबीवीपी ने जीत दर्ज की है। एबीवीपी के उम्मीदवार अंकिव बसोया, शक्ति सिंह और ज्योति चौधरी ने क्रमशः अध्‍यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव पदों पर जीत हासिल की। एनएसयूआई उम्मीदवार आकाश चौधरी ने सचिव पद पर जीत प्राप्‍त की है।   

ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत के बाद मतगणना रोक दी गई थी। छात्रों ने ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर जमकर हंगामा भी किया था। यूथ कांग्रेस ने डूसू चुनाव में ईवीएम की गड़बड़ी पर प्रतिक्रिया दी है। यूथ कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा, 'जब 9 उम्मीदवार ही मैदान में थे तो 10 वोट कहां से पड़े। देश आखिर कब तक ईवीएम को बर्दाश्त करेगा? एक बार फिर लोकतंत्र की हत्या हुई।

गड़बड़ी का आरोप :- दरअसल, सेक्रटरी पोस्ट की मतगणना के दौरान 10 नंबर बूथ पर डाले गए वोटों को लेकर हंगामा शुरू हुआ था। सेक्रटरी पोस्ट पर एक ईवीएम में 10 नंबर के बटन पर 40 वोट दर्ज थे, जबकि मशीन में नोटा समेत सिर्फ 9 ही बटन थे। इसी को लेकर विवाद बढ़ गया। इसके बाद कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने गड़बड़ी का आरोप लगाकर प्रदर्शन किया।
काउंटिंग स्टेशन के शीशे भी तोड़े गए :- कुछ प्रदर्शनकारियों ने काउंटिंग स्टेशन के शीशे भी तोड़ दिए। तनाव बढ़ता देखकर पुलिस फोर्स बढ़ा दी गई। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इसके बाद मतगणना रोक दी। शुरुआती राउंड की मतगणना तक एनएसयूआई अध्यक्ष और सचिव पद पर आगे चल रही थी। उपाध्यक्ष के पद पर एबीवीपी, जबकि संयुक्त सचिव के पद पर सीवायएसएस-आयसा के पास बढ़त थी। शुरुआत में सभी पदों पर एबीवीपी ने बढ़त बनाई थी।
हमने उग्र छात्रों को रोक रखा है :- इस बीच दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने ट्वीट कर कहा है कि 'हम 3 सीट जीत रहे थे लिहाजा हमें जीता हुआ डिक्लेयर किया जाए। हमने उग्र छात्रों को रोक रखा है। अगर वोटों की गिनती जल्द शुरू नहीं हुई तो उन्हें रोकना मुश्किल हो जाएगा। ईवीएम में साफ तौर पर गड़बड़ी की गई हर बार ऐसा क्यों होता है कि ईवीएम की गड़बड़ी का नुकसान कांग्रेस को ही हो, ये प्रमाण है कि बीजेपी ने गड़बड़ी की है'।
मतगणना स्थल के अंदर हुई कहासुनी :- एनएसयूआइ प्रतिनिधि अक्षय और एबीवीपी की छात्र नेता एवं डूसू की पूर्व सचिव महामेधा के बीच मतगणना स्थल के अंदर कहासुनी हो गई। इनके बीच कहासुनी होने का पता चलते ही दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच भी झड़प शुरू हो गई। पुलिस ने मतगणना स्थल के भीतर किसी तरह दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर शांत कराया। इसके बाद मतगणना स्थल पर फोर्स बढ़ा दी गई है।
मतगणना को लेकर NSUI और ABVP में मतभेद :- एनएसयूआई के छात्र नेता और डूसू के पूर्व अध्यक्ष रॉकी तुसिड ने आरोप लगाया कि ईवीएम टेम्पर हुई है। इसके साथ छेड़ छाड़ कि गयी है। उन्होंने चुनाव समिति से मांग की कि खराब हुई मशीनों को ठीक कराया जाए। वहीं एबीवीपी के अध्यक्ष पद के उम्मीदवार अंकिव बैसोया और सचिव पद के उम्मीदवार सुधीर ने एनएसयूआई पर आरोप लगाया कि वह ड्रामा कर रहे हैं।
छात्र राजनीति के कई रंग देखने को मिले :- मालूम हो कि डूसू चुनाव को लेकर पिछले करीब दो महीने से विश्वविद्यालय समेत इससे जुड़े सभी कॉलेजों में छात्र संगठन सक्रिय हैं। इस दौरान छात्र राजनीति के कई रंग देखने को मिले। छात्र संगठनों से जुड़ी राष्ट्रीय पार्टियों के नेताओं के चुनावी मैदान में उतरे से ये मुकाबला और रोचक हो गया है। उम्मीदवारों को ही नहीं बल्कि उनकी मुख्य पार्टी के नेताओं और डीयू के छात्रों को भी नतीजों का बेसब्री से इंतजार है। मतगणना के लिए छात्र संगठनों के प्रतिनिधि सुबह से ही मतगणना स्थल पर पहुंचने लगे। सुरक्षा की दृष्टि से मतगणना स्थल के आसपास काफी संख्या में पुलिस तैनात की गई है। पुलिस कर्मी भीड़ लगाकर खड़े होने वाले छात्रों को लगातार हटा रहे हैं।

No comments:

Post a Comment

Pages