अगस्त में जीएसटी संग्रह में आई गिरावट, 93960 करोड़ रुपये पहुचां आंकड़ा - .

Breaking

Saturday, 1 September 2018

अगस्त में जीएसटी संग्रह में आई गिरावट, 93960 करोड़ रुपये पहुचां आंकड़ा

अगस्त में जीएसटी संग्रह में आई गिरावट, 93960 करोड़ रुपये पहुचां आंकड़ा

सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद जीएसटी संग्रह बढ़ नहीं पा रहा है। अगस्त में जीएसटी संग्रह घटकर 93,960 करोड़ रुपये रह गया जबकि जुलाई में यह 96,483 करोड़ रुपये था। जीएसटी में यह गिरावट ऐसे समय आई है जब 21 जुलाई को हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में कई वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दर घटाने का लोकलुभावन फैसला किया।
वित्त मंत्रालय के अनुसार इस साल जुलाई के लिए कुल 67 लाख करदाताओं ने जीएसटी रिटर्न जीएसटीआर-3बी भरा। यह आंकड़ा 31 अगस्त तक का है। जून के लिए 31 जुलाई तक 66 लाख करदाताओं ने जीएसटीआर रिटर्न दाखिल किए थे। इस तरह जीएसटी रिटर्न दाखिल करने वाले व्यापारियों का आंकड़ा जरूर थोड़ा बढ़ा है।
जून में जीएसटी संग्रह 95,610 करोड़ रुपये रहा था। सरकार ने चालू वित्त वर्ष में जीएसटी से लगभग 12 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है। सरकार को उम्मीद है कि जीएसटी से हर माह लगभग एक लाख करोड़ रुपये राजस्व अर्जित हो जाएगा। हालांकि अब तक शुरुआती चार महीनों में अगर अप्रैल को छोड़ दें तो मई, जून, जुलाई और जुलाई में जीएसटी संग्रह एक लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा नहीं छू पाया है।
वित्त मंत्रालय का कहना है कि जीएसटी संग्रह में गिरावट की एक वजह यह है कि 21 जुलाई की बैठक में जिन वस्तुओं पर जीएसटी की दर घटायी गयी थी, उनकी बिक्री में विलंब के चलते जीएसटी संग्रह पर असर पड़ा है। कारोबारियों को टैक्स की घटी हुई दरों को फायदा ग्राहकों को देने में कुछ वक्त लगा होगा, इसलिए ग्राहकों ने भी कुछ समय के लिए खरीददारी टाल दी होगी जिसके चलते जीएसटी संग्रह में यह कमी दिख रही है। हालांकि टैक्स कटौती का कितना असर हुआ, इसका वास्तविक प्रभाव अगले महीने के आंकड़ों से ही दिखेगा। इसके अलावा केरल के लिए जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि भी बढ़ाकर पांच अक्टूबर 2018 कर दी गयी है। इसका असर भी जीएसटी संग्रह पर पड़ सकता है।

No comments:

Post a Comment

Pages