सेहत के लिए किसी टॉनिक से कम नहीं है करेला, जानिए इसके 6 बड़े फायदे - .

Breaking

Thursday, 13 September 2018

सेहत के लिए किसी टॉनिक से कम नहीं है करेला, जानिए इसके 6 बड़े फायदे

सेहत के लिए किसी टॉनिक से कम नहीं है करेला, जानिए इसके 6 बड़े फायदे

करेला स्वाद में भले ही कड़वा हो लेकिन सेहत के लिए यह किसी टॉनिक से कम नहीं हैं। करेले में ऐसे तत्व मौजूद हैं जो कि हमारे लिए बहुत लाभदायक है। इसके सेवन या इसका जूस पीने से कई बीमारियों की संभावनाओं को खत्म किया जा सकता है। इसे बहुत-सी दवाईयों को बनाने में भी इस्तेमाल किया जाता है। यहां जानिए करेले खाने के फायदे:
डायबिटीज के रोगियों के लिए :- टाइप 4 डायबिटीज के मरीजों के लिए करेले का जूस पीना बहुत ही फायदेमंद है। इंसुलिन की उचित मात्रा न होने पर ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है जो टाइप 2 डायबिटीज के लिए जिम्मेदार हैं। करेला का जूस ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है। डायबिटीज के रोगियों को एक चौथाई कप करेले के रस में इतना ही गाजर का रस मिलाकर पिलाना चाहिए। इससे ब्लड शुगर का लेवल धीरे-धीरे कम होने लगता है। सुबह के समय करेला का जूस पीना बहुत ही फायदेमंद साबित होता है। करेले में मोमर्सिडीन और चैराटिन जैसे एंटी-हाइपर ग्लेसेमिक तत्व पाए जाते हैं।

खून की कमी दूर करता है :- महिलाओं में हिमोग्लोबिन की समस्या बहुत ही आम हैं लेकिन आयरन से भरपूर सब्जियों का सेवन करना सबसे ज्यादा फायदेमंद हैं। दिन में एक बार करेले की सब्जी खाने या इसका जूस पीने से हीमोग्लोबिन की कमी को दूर किया जा सकता हैं। साथ ही खून भी साफ होता है।
कैंसर से बचाता है :- कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने के लिए करेला सहायक होता है। इसका जूस पीने और इसके गुदे को पानी में उबालकर पीने से कैंसर जैसी भयानक बीमारी की संभावना को काफी हद तक कम किया जा सकता है।
पथरी रोगियों के लिए :- पथरी रोगियों को दो करेले का रस पीने और करेले की सब्जी खाने से आराम मिलता है। इससे पथरी गलकर धीरे-धीरे बाहर निकल जाती है। 20 ग्राम करेले के रस में शहद मिलाकर पीने से पथरी गल कर पेशाब के रास्ते निकल जाती है।
भूख बढ़ाने में सहायक :- भूख कम लगने या नहीं लगने की समस्या है तो करेले का सेवन उसके लिए फायदेमंद साबित होगा। करेले के जूस को रोजाना पीने या करेले की सब्जी खाने से पाचन क्रिया सही रहती है, जिससे भूख बढ़ती है।
त्वचा रोग में भी लाभकारी :- करेले में मौजूद बिटर्स और एल्केलाइड तत्व रक्त शोधक का काम करते हैं। करेले की सब्जी खाने और मिक्सी में पीस कर बना लेप रात में सोते समय हाथ-पैर पर लगाने से फोड़े-फुंसी और त्वचा रोग नहीं होते। दाद, खाज, खुजली, सियोरोसिस जैसे त्वचा रोगों में भी करेले के रस में नींबू का रस मिलाकर पीना फायदेमंद है।

No comments:

Post a Comment

Pages