माल्या की फोर्स इंडिया की बिक्री में बैंकों को 360 करोड़ रुपये की चपत - .

Breaking

Sunday, 30 September 2018

माल्या की फोर्स इंडिया की बिक्री में बैंकों को 360 करोड़ रुपये की चपत

माल्या की फोर्स इंडिया की बिक्री में बैंकों को 360 करोड़ रुपये की चपत

भगोड़े कारोबारी विजय माल्या की फॉर्मूला वन रेसिंग टीम फोर्स इंडिया की बिक्री से 13 भारतीय बैंकों के कंसोर्टियम को चार करोड़ ब्रिटिश पाउंड (360 करोड़ रुपये से ज्यादा) की चपत लगी है। यह दावा माल्या की यह कंपनी खरीदने की इच्छुक रूसी फर्टिलाइजर ग्रुप उरालकली ने किया है। ग्रुप ने पिछले महीने हुई इस बिक्री को अनुचित बताते हुए बीते शुक्रवार को लंदन की अदालत में याचिका दायर की है। उरालकली ने कहा है कि उसकी सबसे ऊंची बोली को नजरंदाज कर के फोर्स इंडिया के प्रशासकों ने बड़ी धनराशि हासिल करने का मौका खो दिया।

फोर्स इंडिया टीम में माल्या की कंपनी ऑरेंज इंडिया होल्डिंग्स सार्ल की हिस्सेदारी थी। उसे ब्रिटेन के हाई कोर्ट ने माल्या को कर्ज देने वाले एसबीआई नीत 13 भारतीय बैंकों के पक्ष में जब्त कर लिया था। उरालकली ने फोर्स इंडिया के प्रशासक एफआरपी एडवायजरी के खिलाफ बोली प्रक्रिया में 'पूर्वाग्रह और असमान व्यवहार' समेत कंपनी के लेनदारों को करोड़ों डॉलर का नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। हमने लगाई थी ऊंची बोली रूसी कंपनी के वरिष्ठ स्वतंत्र निदेशक पॉल जेम्स ओस्टलिंग ने कहा कि हमने परिसंपत्तियों एवं कारोबार को हासिल करने के लिए बहुत ऊंची बोली लगाई थी।
हम फोर्स इंडिया के लेनदारों को सबसे बेहतर ऑफर दे रहे थे। अगर प्रशासकों ने हमारी बोली स्वीकार की होती, तो भारतीय बैंकों को बहुत फायदा होता। हमारा ऑफर 10 से 12 करोड़ पाउंड (900-1,008 करोड़ रुपये) तक का था। निष्पक्षता व पारदर्शिता रखी रूसी कंपनी के दावे के उलट फोर्स इंडिया टीम के प्रशासन ने जोर देकर कहा कि बोली प्रक्रिया में निष्पक्षता एवं पारदर्शिता बरती गई। नीलामी के बाद फोर्स इंडिया टीम के अधिकार कनाडा के अरबपति लॉरेंस स्ट्रॉस नियंत्रित रेसिंग प्वाइंट कंसोर्टियम को मिल गए हैं।

No comments:

Post a Comment

Pages