भारत में हवाई टैक्सी शुरू करने की तैयारी में उबर - .

Breaking

Thursday, 30 August 2018

भारत में हवाई टैक्सी शुरू करने की तैयारी में उबर

भारत में हवाई टैक्सी शुरू करने की तैयारी में उबर

मोबाइल ऐप आधारित टैक्सी सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी उबर ने अपनी महत्वाकांक्षी हवाई टैक्सी सेवा लांच करने वाले देशों की संभावित सूची में भारत को भी शामिल कर लिया है। कंपनी के मुताबिक वह इस सेवा की परीक्षण उड़ान वर्ष 2020 से शुरू कर देगी, जबकि दुनिया के तीन शहरों में इसका व्यावसायिक परिचालन वर्ष 2023 से शुरू कर दिए जाने का लक्ष्य रखा गया है।
कंपनी ने उबर एलिवेट नाम से इस सेवा के परिचालन के लिए शुरुआत में संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएसए) के डलास और लॉस एंजिलिस का चयन किया था। कंपनी उड़ान सेवा शुरू करने के लिए किसी तीसरे अंतरराष्ट्रीय शहर की तलाश में थी। कंपनी ने एक बयान में कहा है कि तीसरे शहर के लिए उसने पांच देशों - भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील और फ्रांस - का चयन किया है। कंपनी इन्हीं देशों के किसी एक शहर को अमेरिका के बाहर उबर एलिवेट सेवा शुरू करने वाले पहले अंतरराष्ट्रीय शहर के रूप में चुनेगी। अगर कंपनी इसके लिए भारत और नई दिल्ली को चुनती है, तो मध्य दिल्ली से गुरुग्राम (हरियाणा) की दूरी महज 10 मिनट में तय की जा सकेगी। कंपनी के मुताबिक वह इन पांच देशों में से चुने गए किसी एक शहर के नाम की घोषणा अगले छह महीनों में कर देगी।यह भी पढ़ें

उबर एविएशन प्रोग्राम्स के प्रमुख एरिक एलिसन ने कहा कि पहले अंतरराष्ट्रीय बाजार के रूप में पांच देशों का चयन किया गया है। इन्हीं में से किसी एक शहर में कंपनी उबर एलिवेट सेवा शुरू करेगी, जहां सिर्फ एक बटन दबाकर यात्री उबर एलिवेट के तहत उबर एयर की फ्लाइट सेवा ले सकेंगे। एलिसन के मुताबिक कंपनी की यह सेवा परिवहन क्षेत्र को बदलकर रख देगी और तकनीक को नई ऊंचाई पर ले जाएगी।
उबर ने कहा कि भारत में दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु जैसे शहर बेहर घनी आबादी वाले हैं, जहां सड़क जाम की समस्या बहुत गंभीर है। इन शहरों में कुछ किलोमीटर की यात्रा के लिए भी कई बार एक घंटे से ज्यादा लग जाता है। उबर के मुताबिक उसकी उबर एयर सेवा से जाम की समस्या से पूरी तरह निजात मिल जाएगी।यह भी पढ़ें

कंपनी ने कहा कि शहर का चयन कई मानदंडों पर आधारित होगा। उनमें बाजार का आकार, सेवा शुरू करने के लिए उचित भौगोलिक और अन्य परिस्थितियां और स्थानीय सरकार और समुदायों से इस सेवा को सफल बनाने में मदद का वादा जैसे मानदंड प्रमुख होंगे। सेवा शुरू करने के लिए कंपनी वर्टिकल टेक ऑफ एंड लैंडिंग (वीटीओएल) विमानों का उपयोग करेगी। यानी इन विमानों को उड़ने या लैंड करने के लिए रनवे जितनी ज्यादा जगह की जरूरत नहीं होगी।
क्या होती है एयर टैक्सी :- सड़क परिवहन में जाम की समस्या से पार पाने के लिए अमेरिका समेत कई देशों में आंशिक तौर पर एयर टैक्सी का इस्तेमाल हो रहा है। इस सेवा के तहत बेहद सीमित दूरी की उड़ानों के लिए अधिकतम 12-15 यात्री क्षमता वाले विमानों का उपयोग किया जाता है। ये छोटे और कई बार ड्रोन से कुछ ही बड़े विमान अमूमन पायलट-रहित होते हैं। ये बड़े भवनों की छतों से टेक ऑफ और लैंडिंग कर सकते हैं। इसी वर्ष बेंगलुरु में एक कंपनी ने एयरपोर्ट से टेक सिटी तक के लिए एयर टैक्सी सेवा शुरू की है।

No comments:

Post a Comment

Pages