अफगानिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन नाटो सैनिकों की मौत - .

Breaking

Sunday, 5 August 2018

अफगानिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन नाटो सैनिकों की मौत

अफगानिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन नाटो सैनिकों की मौत

पूर्वी अफगानिस्तान के परवान प्रांत में गश्त पर निकले तीन नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) सैनिकों की रविवार सुबह एक आत्मघाती हमले में मौत हो गई। राजधानी काबुल से 60 किलोमीटर उत्तर में स्थित चारीकर शहर में किए गए इस हमले में एक अमेरिकी सैनिक और दो अफगान सैनिक घायल हुए हैं। हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है।
परवान के गर्वनर की प्रवक्ता वहीदा शाहकार ने बताया कि सुबह छह बजे के करीब एक आत्मघाती हमलावर ने सैनिकों के पास पहुंचकर खुद को विस्फोट से उड़ा दिया। अमेरिकी सेना के जनरल जॉन निकलसन ने कहा है, "सैनिकों का यह बलिदान हमारे दिलों और इतिहास में दर्ज हो गया है। यह आतंकवाद के खिलाफ हमारे इरादों को और मजबूत करेगा।"
अफगानिस्तान में अमेरिका के नेतृत्व में तालिबान के खिलाफ लड़ने वाली नाटो सेना ने वर्ष 2014 में अपना सैन्य अभियान खत्म कर दिया था। लेकिन आतंक रोधी अभियान में अफगान सेना को प्रशिक्षण देने के लिए अब भी 16 हजार सैनिक अफगानिस्तान में हैं। इनमें 13 हजार अकेले अमेरिका के हैं।
रासायनिक हथियार कार्यक्रम से जुड़े सीरियाई अधिकारी की बम धमाके में मौत
सीरियाई वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्र के निदेशक अजीज असबर की कार बम धमाके में मौत हो गई।पश्चिमी देश आरोप लगाते रहे हैं कि सीरिया की सरकार मासयाफ शहर में स्थित इस अनुसंधान केंद्र का इस्तेमाल रासायनिक हथियारों के विकास के लिए करती थी।
बताया जा रहा है कि बम अजीज की कार में ही रखा था। शनिवार शाम को हामा शहर के पास उनकी कार में विस्फोट हो गया।विद्रोही संगठन तहरीर अल-शाम से जुड़े एक धड़े ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। मासयाफ स्थित इस केंद्र पर इजरायल ने इस साल जुलाई और पिछले साल सितंबर में बमबारी की थी। गत अप्रैल में विद्रोहियों के खिलाफ सीरियाई सेना के रासायनिक हमले के बाद अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने दमिश्क स्थित एक अनुसंधान केंद्र नष्ट कर दिया था। सीरिया हालांकि किसी तरह के रासायनिक हमले से इन्कार करता है।

No comments:

Post a Comment

Pages