फसल खरीदी में 9 लाख की धोखाधड़ी, एक करोड़ तक बढ़ सकता है मामला - .

Breaking

Tuesday, 28 August 2018

फसल खरीदी में 9 लाख की धोखाधड़ी, एक करोड़ तक बढ़ सकता है मामला

फसल खरीदी में 9 लाख की धोखाधड़ी, एक करोड़ तक बढ़ सकता है मामला

शहपुरा कृषि उपज मंडी में किसानों की चना फसल खरीदी व राशि का भुगतान करने में 8.79 लाख रुपए की धोखाधड़ी के मामले में केस दर्ज किया गया है। पूरी जांच के बाद राशि एक करोड़ तक पहुंच सकती है। कलेक्टर छवि भारद्वाज के निर्देश पर मामले की फूड कंट्रोलर एसके जादौन ने जांच की। इसके बाद सोमवार की रात शहपुरा पुलिस थाने में कृषि उपज मंडी के विक्रय अधिकारी कुलदीप शुक्ला के विरुद्ध धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया। आरोपित पुलिस गिरफ्त से बाहर है।
पुलिस ने बताया कि शहपुरा कृषि उपज मंडी में कार्यरत विक्रय अधिकारी शुक्ला के खिलाफ जांच की गई। इसके बाद धोखाधड़ी का खुलासा हुआ है। पुलिस के मुताबिक मंडी में किसानों ने शासकीय दर पर चने की फसल बेची। विक्रय अधिकारी शुक्ला के निर्देश पर ज्यादातर किसानों को फसल बेचने के बाद हाथ से लिखी पर्ची दी गई और एक सप्ताह बाद भुगतान लेने आने को कहा गया। इसके बाद चना फसल की खरीदी का रिकॉर्ड कम्प्यूटर पर अपडेट नहीं किया गया।
दो सप्ताह बाद मंडी में किसानों से फिर खरीदी की गई और उसका कम्प्यूटर पर रिकॉर्ड तैयार किया गया, लेकिन दो सप्ताह बाद फिर खरीदी हाथ से लिखी पर्ची के आधार पर की गई। इससे फसल बेचने और हाथ से लिखी पर्ची लेने वाले किसानों को भुगतान नहीं हुआ। जबकि बाद में फसल बेचने वाले किसानों को भुगतान किया गया। इस बीच कृषि उपज मंडी से धीरे-धीरे चने से लदे 79 ट्रक निकल गए। इसके बाद भी सैकड़ों किसान चना फसल का भुगतान पाने मंडी के चक्कर काट रहे हैं।
रिकॉर्ड में की गड़बड़ी :- शहपुरा मंडी की खरीदी में गड़बड़ी होने से किसान भड़क गए। विक्रय अधिकारी शुक्ला ने कुछ किसानों की पर्ची लेकर कम्प्यूटर रिकॉर्ड में दर्ज कराया। इससे फसल खरीदी का रिकॉर्ड ऊपर-नीचे होने के साथ ही गड़बड़ा गया। मंडी के विक्रय अधिकारी शुक्ला ने 1 अप्रैल से 7 जून तक रिकॉर्ड में गड़बड़ी करके किसानों से धोखाधड़ी की।
कलेक्टर से मिले किसान :- चना फसल की खरीदी और राशि का भुगतान नहीं होने पर किसानों का समूह कलेक्टर से मिलने पहुंचा। इन किसानों ने शहपुरा मंडी में विक्रय अधिकारी शुक्ला द्वारा करीब एक करोड़ की धोखाधड़ी किए जाने की शिकायत की।
पहले जांच, फिर एफआईआर :- कलेक्टर छवि भारद्वाज ने किसानों की शिकायत पर फूड कंट्रोलर एसके जादौन को इस मामले का जांच अधिकारी बना दिया। फूड कंट्रोलर ने जांच प्रतिवेदन कलेक्टर के समक्ष पेश किया, जिस पर उन्होंने विक्रय अधिकारी कुलदीप शुक्ला के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए।
वर्जन :- कलेक्टर के निर्देश पर फूड कंट्रोलर ने शहपुरा मंडी की फसल खरीदी की जांच की। इसके बाद विक्रय अधिकारी शुक्ला के विरुद्ध 8.79 लाख की धोखाधड़ी करने की रिपोर्ट दर्ज कराई है। इस मामले की विवेचना की जा रही है।

No comments:

Post a Comment

Pages