6 साल में पूरा होगा इंदौर-मनमाड़ रेल लाइन प्रोजेक्ट - .

Breaking

Wednesday, 29 August 2018

6 साल में पूरा होगा इंदौर-मनमाड़ रेल लाइन प्रोजेक्ट

6 साल में पूरा होगा इंदौर-मनमाड़ रेल लाइन प्रोजेक्ट

इंदौर-मनमाड़ रेल लाइन परियोजना के लिए मंगलवार को दिल्ली में मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, जहाजरानी और रेल मंत्रालय के बीच समझौता पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर हुए। छह साल में प्रोजेक्ट पूरा करने का लक्ष्य है और इस साल अक्टूबर में मैदानी काम शुरू हो जाएगा। इस रेल लाइन का काम अब शीघ्र शुरू होगा, जिसका सीधा फायदा मालवा-निमाड़ के लोगों को मिलेगा। 362 किमी की इस परियोजना के अंतर्गत मप्र में मनमाड़ लाइन का 176 किमी जबकि महाराष्ट्र में 186 किमी हिस्सा रहेगा। पहले इस रेल लाइन की दूरी 339 किलोमीटर थी। एमओयू के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, देवेंद्र फडनवीस, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और पीयूष गोयल भी मौजूद थे।
घटेगी इंदौर व मुंबई की दूरी : इंदौर-मनमाड़ रेल संघर्ष समिति के मनोज मराठे ने बताया कि इससे इंदौरपुणे की दूरी भी घटेगी। नई लाइन इंदौर से मनमाड़-दौंड होते हुए पुणे के लिए छोटा वैकल्पिक रेल मार्ग उपलब्ध कराएगी। वर्तमान में इंदौर-मुंबई की दूरी देवास, उज्जैन, रतलाम, वडोदरा और सूरत होते हुए 815 किलोमीटर है। मनमाड़ के जरिये यह 171 किमी घटकर 644 किमी रह जाएगी। साथ ही चार से पांच घंटे की बचत होगी, जिससे किराया भी कम होगा।
बंदरगाह से सीधे जुड़ेगा इंदौर : परिवहन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि रेल परियोजना के जरिए इंदौर जवाहरलाल नेहरू और मुंद्रा बंदरगाह से जुड़ जाएगा, जिसका फायदा प्रदेश के खनिज और कृषि उत्पादों को बाहर भेजने में मिलेगा। व्यापारिक दृष्टि से यह प्रोजेक्ट मध्यप्रदेश के लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा। परियोजना को लेकर लोकसभा अध्यक्ष व इंदौर की सांसद सुमित्रा महाजन, धुलिया विधायक अनिल गोटे व धुलिया सांसद डॉ. सुभाष भामरे भी प्रयास कर रहे थे।
55 प्रतिशत भागीदारी जेएनपीटी देगा :- 8574.79 करोड़ रुपए की इस परियोजना के लिए सबसे ज्यादा 55 प्रतिशत आर्थिक भागीदारी जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) देगा। मप्र और महाराष्ट्र सरकारों के हिस्से में 15-15 प्रतिशत भागीदारी होगी, जबकि सागरमाला डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लि. व आईपीआरसीएल की भी 15 प्रतिशत आर्थिक भागीदारी होगी।
इसी साल शुरू होना है काम :- - 06 साल में पूरा करने का लक्ष्य
- 362 किमी की परियोजना- 518 करोड़ रुपए मिलाना होंगे महाराष्ट्र को
- 500 करोड़ का अंशदान देगा मध्यप्रदेश- 176 किमी हिस्सा रहेगा मप्र में
- 186 किमी लाइन आएगी महाराष्ट्र में

No comments:

Post a Comment

Pages