मप्र में मानसून की जोरदार बारिश, नदी-नाले उफने, कई मार्ग बंद - .

Breaking

Monday, 23 July 2018

मप्र में मानसून की जोरदार बारिश, नदी-नाले उफने, कई मार्ग बंद

मप्र में मानसून की जोरदार बारिश, नदी-नाले उफने, कई मार्ग बंद

मालवा-निमाड़ अंचल में सोमवार को कहीं रिमझिम तो कहीं तेज बारिश हुई। रतलाम में चार घंटे में 4 इंच बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए। इससे रास्ते अवरुद्ध हो गए। रेलवे ट्रैक पर पानी होने से धीमी गति से ट्रेनें निकाली गईं। रतलाम शहर में सोमवार तड़के करीब साढ़े चार बजे से झमाझम बारिश से चारों ओर पानी ही पानी हो गया। अब तक 23 इंच और गत वर्ष इस अवधि में 18 इंच बारिश हुई थी। शहर की सड़कों पर जल जमाव हो गया।
उज्जैन में 3.5 इंच बारिश, लोग हुए परेशान :- उज्जैन शहर में सोमवार अलसुबह तेज बारिश हुई।24 घंटे के दौरान 3.5 इंच वर्षा दर्ज की गई। कई क्षेत्रों में घुटने तक पानी भर गया। निचले इलाकों में घरों में पानी भरने से रहवासी परेशान हुए। शिप्रा नदी और शहर के मुख्य पेयजल स्रोत गंभीर बांध में भी तेजी से जलस्तर बढ़ा है। अभी तक 21 इंच वर्षा दर्ज की जा चुकी है। नीमच जिले में रविवार रात करीब एक इंच औसत बारिश हुई।
देवास शहर में सोमवार को अलसुबह से बारिश शुरू हुई, जो शाम तक चलती रही। इससे निचले इलाकों में जल जमाव के हालात बन गए। एसपी बंगले के सामने स्थित कॉलोनी में पानी भर गया। जिले में 23 अब तक 364.11 मिमी बारिश दर्ज की गई है। मंदसौर में आधे घंटे तक रिमझिम बरसात हुई। अभी तक जिले में 343.3 मिमी और पिछले साल 23 जुलाई तक औसत 349.6 मिमी हुई थी। शाजापुर में 6 घंटे में एक इंच बारिश दर्ज की गई। अब तक 20 इंच और पिछले साल इस अवधि तक 11 इंच हुई गई थी। झाबुआ में रुक-रुककर रिमझिम वर्षा हो रही है। जिले में अब 341.5 मिमी औसत वर्षा दर्ज हो चुकी है। खरगोन में 24 घंटे में 35 मिमी बारिश दर्ज की गई।
अब तक जिले में 309 मिमी और गत वर्ष इस अवधि में 306 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। खंडवा में सोमवार दिनभर रिमझिम बारिश का दौर चला। जिले में अब तक करीब 345 मिमी और गत वर्ष इस अवधि में 365 मिमी बारिश हुई थी। बुरहानपुर में दिनभर तेज व रिमझिम बारिश का दौर जारी रहा। जिले में अब तक 380 मिमी बारिश दर्ज की गई है। उधर, ताप्ती नदी का जलस्तर 217 मीटर पर बरकरार है।
जबलपुर। एक ओर जहां महाकोशल के जिलों में रविवार रात से शुरू हुई झमाझम बारिश का दौर सोमवार शाम तक चलता रहा। कभी तेज तो कभी रिमझिम लगातार बारिश होती रही। इससे नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। वहीं दूसरी ओर विंध्य क्षेत्र के अधिकतर जिलों में सिर्फ बादल छाए रहे। रीवा, शहडोल, सीधी में थोड़ी देर के लिए हल्की बारिश हुई है। उमरिया, सतना में भी बादल छाए रहे। दमोह: रविवार से लगातार हो रही बारिश से जिले के नदी-नाले उफना गए हैं। इससे दमोह-पथरिया सड़क मार्ग बंद हो गया है। नरसिंहपुर: लगातार बारिश से नदी-नालों का जलस्तर बढ़ गया है। कई पहुंच मार्ग बाधित हो गए हैं। मंडला: रविवार रात से हो रही लगातार बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। इससे मंडला से घुघरी और निवास से जबलपुर मार्ग बंद हो गया है। बालाघाट: दो दिन से हो रही लगातार बारिश से नदी, नाले उफान पर हैं। गढ़ी का 85 साल पुराना काश्मीरी नाले की पुलिया बहने से गढ़ी से बैहर, बालाघाट और गढ़ी से मंडला जिले का सड़क संपर्क टूट गया है। तन्नौर नदी उफान पर होने से कटंगी से बिरवा के बीच पड़ने वाली पुलिया पर पानी होने से आवागमन बंद है। इससे कटंगी, बिरवा, सेरपार, गोवारी, आमगांव समेत अन्य गांवों का बैहर से सड़क संपर्क टूटा हुआ है। गढ़ी के पास स्थित बखारी नाले के ऊपर से भी पानी बहने से आवागमन बाधित हो गया है।

No comments:

Post a Comment

Pages