केमिकल कंपनी यूपीएल ने किया सबसे बड़ा विदेशी अधिग्रहण - .

Breaking

Monday, 23 July 2018

केमिकल कंपनी यूपीएल ने किया सबसे बड़ा विदेशी अधिग्रहण

केमिकल कंपनी यूपीएल ने किया सबसे बड़ा विदेशी अधिग्रहण

केमिकल कंपनी यूपीएल (पूर्व नाम युनाइटेड फॉस्फेट्स) ने अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी और टीपीजी के साथ मिलकर फ्लोरिडा की एरिस्टा लाइफ साइंसेज इंक का अधिग्रहण किया है। पूरी तरह नकद लेनदेन वाले इस सौदे में यूपीएल एरिस्टा का 4.2 अरब डॉलर (28,900 करोड़ रुपये) में अधिग्रहण करेगी। हाल के वर्षों में किसी भारतीय कंपनी का यह सबसे बड़ा विदेशी अधिग्रहण है।
सौदे से यूपीएल को मिलेगा फायदा :- इस अधिग्रहण से यूपीएल की बाजार में स्थिति और मजबूत होगी और एग्री सोल्यूशन मार्केट में ग्लोबल कंपनी बन जाएगी। इसके साथ ही यूपीएल का संयुक्त कारोबार पांच अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा। विदेशी कंपनी के साथ कारोबारी तालमेल से उसे कारोबार में हर साल करीब 20 करोड़ डॉलर का फायदा भी होगा।
विदेशी निवेशकों से मिली सहयोग :- यूपीएल ने इस अधिग्रहण के लिए दुनिया के दूसरे सबसे बड़े सोवरेन वेल्थ फंड अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी और प्राइवेट इक्विटी कंपनी टीपीजी के साथ समझौता किया है। यूपीएल के बयान के अनुसार ये दोनों कंपनियां यूपीएल की मॉरीशस स्थित अंतरराष्ट्रीय सहायक कंपनी यूपीएल कॉरपोरेशन में 1.2 अरब डॉलर निवेश करेंगी। फ्लोरिडा की कंपनी को यूपीएल कॉरपोरेशन ही खरीद रही है। यूपीएल कॉरपोरेशन में विदेशी सहयोगी कंपनियों की संयुक्त हिस्सेदारी 22 फीसद होगी। दोनों विदेशी सहयोगी कंपनियां 60-60 करोड़ डॉलर निवेश करेंगी।
बायर, डुपांट व सिंजेंटा के समकक्ष होगी यूपीएल :- इसका अधिग्रहण यूपीएल के लिए सबसे बड़ा दांव है। इस सौदे के बाद यूपीएल दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी फसल सुरक्षा कंपनी बन जाएगी। बायर, डुपांट, सिंजेंटा और एरिस्टा इस बाजार में यूपीएल के मुकाबले काफी बड़ी कंपनियां है। इस समय विश्व बाजार में यूपीएल नौंवें स्थान पर आती है। अधिग्रहण के बाद यूपीएल का संयुक्त कारोबार पांच अरब डॉलर हो जाएगा।
अधिग्रहण का पूरी तरह नकद भुगतान :- यूपीएल के वाइस चेयरमैन विक्रम श्रॉफ ने कहा कि एरिस्टा लाइफ साइंसेंज और उसकी सहयोगी कंपनियों को खरीदने के लिए पूरी तरह नकद सौदा किया गया है। यह समझौता न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (एनवाईएसई) में सूचीबद्ध प्लेटफार्म स्पेशिएलिटी प्रोडक्ट्स कॉरपोरेशन की पेस्टीसाइड्स बिजनेस कंपनी एरिस्टा लाइफ लाइंसेंज इंक और उसकी सहयोगी कंपनियों के बीच हुआ है। प्रमुख केमिकल निर्माता प्लेटफार्म स्पेशिएलिटी की सबसे बड़ी शेयरधारक बिल एकमैन की परशिंग स्वायर कैपिटल मैनेजमेंट कंपनी है। इसके पास 14 फीसद हिस्सेदारी है। उसकी सब्सिडियरी एरिस्टा इनोवेटिव क्रॉप प्रोटेक्शन सोल्यूशन में ग्लोबल कंपनी है। एरिस्टा को मार्च 2018 में समाप्त वर्ष के दौरान दो अरब डॉलर कारोबार और 42.4 करोड़ डॉलर मुनाफा हुआ था।
फंडिंग में नहीं होगी कोई दिक्कत :- दोनों विदेशी सहयोगी कंपनियों के निवेश के बाद बाकी फंडिंग के लिए यूपीएल ने तीन अरब डॉलर कर्ज लेने के लिए बैंकों से करार किया है। विदेशी बैंकों में जापान का मित्सुबिशी यूएफजे फाइनेंशियल ग्रुप और रैबो बैंक की हांगकांग ब्रांच इस सौदे के लिए ब्रिज लोन की सुविधा देगी। यूपीएल ने कहा है कि उसे तीन अरब डॉलर कर्ज के लिए आश्वासन मिल गया है।

No comments:

Post a Comment

Pages