थोक महंगाई में उछाल, साल भर में 0.90 फीसदी से बढ़कर हुई 5.77 फीसदी - .

Breaking

Monday, 16 July 2018

थोक महंगाई में उछाल, साल भर में 0.90 फीसदी से बढ़कर हुई 5.77 फीसदी

थोक महंगाई में उछाल, साल भर में 0.90 फीसदी से बढ़कर हुई 5.77 फीसदी

ईंधन, बिजली और सब्जियों की कीमतें बढ़ने की वजह से जून में थोक भाव के हिसाब से महंगाई दर बढ़कर 5.77 फीसदी हो गई। मई में थोक भाव की महंगाई दर 4.43 और पिछले साल जून में 0.90 फीसदी थी। सरकार ने अप्रैल की थोक महंगाई दर को संशोधित करके 3.62 फीसदी कर दिया है। शुरुआती आंकड़ों में इसके 3.18 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया था । सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जून में थोक में खाने-पीने की चीजों की महंगाई दर 1.80 फीसदी रही, जो मई में 1.60 फीसदी थी। साल दर साल आधार पर जून में सब्जियों के भाव 8.12 फीसदी ऊंचे रहे। मई में सब्जियों की कीमतें 2.51 फीसदी बढ़ी थी। बिजली और ईंधन के मामले में पिछले महीने महंगाई दर बढ़कर 16.18 फीसदी हो गई जो मई में 11.22 फीसदी थी। इसकी प्रमुख वजह अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें बढ़ना है।
आलू के भाव 99 फीसदी बढ़े :- जून में आलू के भाव एक साल पहले के मुकाबले 99.02 फीसदी ऊंचे रहे। मई में भी थोक में आलू की महंगाई दर 81.93 फीसदी थी। इसी तरह जून में प्याज की महंगाई दर 18.25 फीसदी रही, जो इससे पिछले महीने 13.20 फीसदी थी। इन सबके बीच दलहन के भाव में गिरावट जारी रही। साल दर साल आधार पर जून में दाल-दलहन के भाव 20.23 फीसदी कम रहे।
रिटेल में भी महंगाई ज्यादा :- पिछले हफ्ते खुदरा कीमतों के हिसाब से महंगाई दर के आंकड़े जारी किए गए थे। इस हिसाब से जून में महंगाई दर 5 प्रतिशत रही, जो 5 महीनों का सबसे ऊंचा स्तर है। रिजर्व बैंक नीतिगत ब्याज दरें तय करते समय खास तौर पर खुदरा के हिसाब से महंगाई दर को ही आधार बनाता है। वैसे बढ़ती महंगाई दर रिजर्व बैंक के अनुमान के मुताबिक ही है। आरबीआई ने अपने ताजा अनुमान में अक्टूबर-मार्च छमाही में खुदरा महंगाई दर 4.7 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है। इससे पहले इस मामले में उसका पूर्वानुमान 4.4 फीसदी था।

No comments:

Post a Comment

Pages