दुखड़ा सुन बोले कमलनाथ - हम आश्वासन नहीं वचन देंगे - .

Breaking

Tuesday, 12 June 2018

दुखड़ा सुन बोले कमलनाथ - हम आश्वासन नहीं वचन देंगे

दुखड़ा सुन बोले कमलनाथ - हम आश्वासन नहीं वचन देंगे

चुनाव से पहले कर्मचारियों का साथ हासिल करने के लिए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सोमवार को कर्मचारी संगठनों के साथ बैठक की। इस दौरान संगठन के पदाधिकारियों ने अपनी समस्याओं का दुखड़ा नाथ को सुनाया।
कमलनाथ ने कहा कि आप सब विवाद भूल जाइए। मैं कोई आश्वासन नहीं दूंगा और न ही घोषणा करूंगा। आमने-सामने बैठाकर घोषणा पत्र बनाएंगे और उसमें हम आपको वचन देंगे। सच्चाई का साथ दीजिए, यही हमारी मांग है। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि सरकार कर्मचारी संगठनों को तोड़ने की फैक्टरी चला रही है। बैठक में जिस तरह कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया उससे गदगद नाथ ने कहा कि दुख इस बात का नहीं कि सरकार ने आश्वासन या मांगें पूरी नहीं की, बल्कि इसका है कि कर्मचारी और उनके संगठनों को अपमानित किया। इस दौरान कर्मचारी कांग्रेस के वीरेंद्र खोंगल ने कहा कि सरकार की हां में जिसने हां नहीं मिलाई, उस संगठन को तोड़कर नया अध्यक्ष बना दिया। जब कर्मचारी विरोध करता है तो एक साथ करता है और जब साथ देता है तो भी एक साथ होता है।
  1. अनिल वाजपेई (निगम-मंडल संघ)- 7वां वेतनमान और सेवानिवृत्ति आयु 60 से बढ़ाकर 62 करने का लाभ दिया पर निगम व मंडलों में कहीं चौथा, पांचवां और कहीं छठवां वेतनमान मिल रहा है।
  2. देवेंद्र भदौरिया (डिप्लोमा इंजीनियर संघ)- हमें एक भी पदोन्न्ति नहीं मिली। ग्रेड पे भी सबसे कम है। इसका कारण आप हैं क्योंकि देर से जागे। बहुत देर कर दी हुजूर आतेआते पर अब विश्वास के साथ आगे बढ़ें।
  3. अशोक शर्मा (राजपत्रित अधिकारी संघ)- आरक्षण को लेकर स्थिति साफ करें। हम आरक्षण विरोधी नहीं पर सरकार ने ऐसी खाई पैदा कर दी कि जो कर्मचारी साथ भोजन करते थे, वे अब कतराने लगे हैं।

No comments:

Post a Comment

Pages