बालाघाट में पटवारी और मलेरिया इंस्पेक्टर रिश्वत लेते गिरफ्तार - .

Breaking

Tuesday, 26 June 2018

बालाघाट में पटवारी और मलेरिया इंस्पेक्टर रिश्वत लेते गिरफ्तार

बालाघाट में पटवारी और मलेरिया इंस्पेक्टर रिश्वत लेते गिरफ्तार

जिले में मंगलवार को लोकायुक्त की दो कारर्वाई हुईं। जबलपुर लोकायुक्त की टीम ने लालबर्रा तहसील के लैंडेझरी गांव में एक पटवारी को साढ़े सात हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा तो किरनापुर स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ मलेरिया इंस्पेक्टर को 3 हजार रुपए की रिश्वत लेते दबोचा गया।
सीमांकन के लिए रिश्वत मांग रहा था पटवारी :- लालबर्रा तहसील के लैंडेझरी गांव में डीएसपी जेपी वर्मा की टीम ने कार्रवाई की। दोपहर करीब 3 बजे टीम ने दबिश देकर पटवारी रमेश पिता भैयालाल डहरवाल को रिश्वत की रकम के साथ पकड़ा। जेपी वर्मा ने बताया है कि डोंगरिया निवासी राम पिता कारूलाल (32) ने दो दिन पूर्व लोकायुक्त में शिकायत की थी कि पटवारी रमेश डहरवाल उससे जमीन की फौती चढ़ाकर ऋ ण पुस्तिका बनाकर सीमांकन करने के लिए रिश्वत मांग रहा है। इसके बाद तय समय पर पटवारी को लैंडेझरी चौक में स्थित नारू की पान दुकान में साढ़े सात हजार रुपए लेते पकड़ा।
30 हजार मुआवजा राशि देने मांगी घूस, मलेरिया इंस्पेक्टर गिरफ्तार :- लालबर्रा तहसील में हुई कार्रवाई से पहले मंगलवार को ही सुबह लोकायुक्त टीम ने एक और कार्रवाई की, जिसमें किरनापुर स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ मलेरिया इंस्पेक्टर रामकुमार रामटेके को 3 हजार की रिश्वत लेते पकड़ा गया। मलेरिया इंस्पेक्टर के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। लोकायुक्त डीएसपी दिलीप झड़वड़े ने बताया कि लवेरी निवासी यशोदा पति बसंत दांडे का नसबंदी ऑपरेशन फेल हो गया था, जिसकी मुआवजा राशि 30 हजार रुपए स्वीकृत हुई थी। यही राशि हितग्राही को देने के एवज में मलेरिया इंस्पेक्टर ने 5 हजार की रिश्वत मांगी थी। पीड़ित महिला ने एक हजार रुपए पहले दे दिए थे। शेष रकम के लिए इंस्पेक्टर दवाब बना रहा था, जिस पर तंग आकर पीड़िता ने लोकायुक्त पुलिस में शिकायत की।

No comments:

Post a Comment

Pages