बरसात होते ही अस्पताल में पहुंचने लगे डायरिया के मरीज, आप भी रहें सावधान - .

Breaking

Monday, 11 June 2018

बरसात होते ही अस्पताल में पहुंचने लगे डायरिया के मरीज, आप भी रहें सावधान

बरसात होते ही अस्पताल में पहुंचने लगे डायरिया के मरीज, आप भी रहें सावधान
बरसात के मौसम सुहाना होता है, लेकिन यह मौसम बीमारियों को भी आमंत्रित करता है। क्योंकि कई जगह पानी भर जाता है, कीचड़-गंदगी से मच्छर पनपते हैं। डायरिया, मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, पीलिया जैसी बीमारियों का खतरा रहता है। प्रदूषित हवा सांस के साथ शरीर में जाती है और जुकाम का शिकार बनाती है। इस मौसम में एलर्जी का भी खतरा रहता है। प्री-मानसून बौछारों के साथ ही अब आंबेडकर अस्पताल में डायरिया के मरीज पहुंचने लगे हैं। अस्पताल प्रबंधन ने भी मौसमी बीमारियों से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है।
आंबेडकर अस्पताल में रोज लगभग 1800 मरीज ओपीडी में पहुंचते हैं। अभी 15 से 20 मरीज डायरिया के पहुंच रहे हैं। डॉक्टर मरीजों को दवा के साथ-साथ मच्छरों से बचने की सलाह दे रहे हैं। डॉ. आरएल खरे ने बताया कि इस मौसम में मच्छरों की प्रजनन क्षमता दोगनी हो जाती है। मच्छर के काटने से डेंगू जैसी घातक बीमारी होती है।
बरसात की बीमारी
मलेरिया - मलेरिया बरसात में होने वाली आम, लेकिन गंभीर संक्रामक बीमारी है। यह पानी के जमाव से पैदा होने वाले मच्छरों के काटने से होती है। इसलिए आसपास पानी का जमाव नहीं होने देना चाहिए।
डेंगू - डेंगू बुखार भी मच्छरों के काटने से होता है, लेकिन ये मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। डेंगू-मलेरिया से बचने के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करें। घर से निकलने से पहले शरीर को पूरी तरह ढंककर रखें।
डायरिया - बरसात के मौसम में डायरिया सबसे आम समस्या है। इसमें पेट में मरोड़ के साथ दस्त होती है। यह प्रदूषित पानी और खाद्य पदार्थों के सेवन से होता है। इसलिए खाद्य पदार्थों को ढंक कर रखें, बाहर के खाद्य पदार्थ खाने से बचें, पानी उबालकर व छानकर पीएं।
चिकनगुनिया - चिकनगुनिया भी मच्छरों से फैलने वाला बुखार है। इसमें जोड़ों में तेज दर्द होता है। इससे बचने के लिए घर के आसपास, छत, टायर आदि में पानी जमा न होने दें।
पीलिया- शहर की ज्यादातर पाइप लाइन नालियों से होकर गुजरी है। पाइप लाइन पुरानी होने की वजह से उसमें छेद हो जाते हैं जिससे होकर नाली-नाले का प्रदूषित पानी घरों में पहुंचता है। इस पानी के सेवन से पीलिया जैसी घातक बीमारी होती। पीलिया से बचने के लिए पानी को उबालकर पीएं।
आंख आना - बरसात के शुरुआत में तेज हवा, आंधी चलने से आंखों में कई प्रकार के रोग होते हैं। इनमें प्रमुख है आंख का आना। इसमें आंख लाल हो जाती है, सूज जाती है और दर्द रहता है। इससे बचने के लिए साफ हाथों से आंखों को साफ करना चाहिए। आंखों को दिन में तीन से चार बार साफ पानी से धोएं और डॉक्टर को दिखाएं। - बरसात के मौसम में बाहर के खाद्य पदार्थों से बचें। साफ-सफाई पर ध्यान दें। आस-पास जल जमाव न होने दें। इससे बरसात में फैलने वाली बीमारियों से बच सते हैं। 
- बरसात में मच्छरों की प्रजनन क्षमता दोगनी हो जाती है। इससे डायरिया, चिकनगुनिया समेत तमाम बीमारियां फैलती हैं। आंबेडकर अस्पताल में अभी से डायरिया के मरीज आने लगे हैं।

No comments:

Post a Comment

Pages