असंगठित श्रमिकों की योजना के कार्यक्रम पर एक दिन में 12 करोड़ खर्च होंगे - .

Breaking

Wednesday, 13 June 2018

असंगठित श्रमिकों की योजना के कार्यक्रम पर एक दिन में 12 करोड़ खर्च होंगे

असंगठित श्रमिकों की योजना के कार्यक्रम पर एक दिन में 12 करोड़ खर्च होंगे

मध्यप्रदेश में असंगठित श्रमिकों की योजना के कार्यक्रम में एक ही दिन में 12 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च किए जाएंगे। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने सभी नगरीय निकायों को इस कार्यक्रम के लिए अलग से राशि आवंटित की है। विभाग ने प्रत्येक नगर निगम को 10 लाख, नगर पालिका को 5 लाख और नगर परिषद को 2 लाख रुपए आवंटित किए हैं। बुधवार को पूरे प्रदेश के नगरीय निकायों में यह कार्यक्रम होना है।
मप्र में करीब 386 नगरीय निकाय है। इनमें से 16 नगरीय निकायों को 1.60 करोड़ रुपए, 98 नगर पालिकाओं को 4.90 करोड़ रुपए और 272 नगर परिषदों को 5.44 करोड़ रुपए सिर्फ कार्यक्रम के आयोजन के लिए दिए जा रहे हैं। नगरीय विकास आयुक्त ने सभी नगर निगम आयुक्त और मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जब तक विभाग की तरफ से इन कार्यक्रमों के लिए राशि आवंटित नहीं होती, तब तक निकाय स्वयं की निधि से कार्यक्रम के लिए पैसा खर्च करें। असंगठित श्रमिकों का कार्यक्रम बुधवार को दो चरणों में होगा।
जो नगर परिषद जनपद पंचायत मुख्यालय पर हैं, वहां सुबह 11 बजे कार्यक्रम आयोजित होगा। वहीं अन्य नगर परिषद, नगर पालिका और नगर निगमों में शाम पांच बजे असंगठित श्रमिकों की योजना का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। जिसमें विभिन्न् विभागों द्वारा श्रमिकों को योजनाओं का लाभ दिया जाएगा। सभी नगरीय निकायों में मुख्यमंत्री के सीधे प्रसारण की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए गए हैं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना (संबल) के तहत राज्य सरकार ने मजदूरों के बच्चों को पढ़ाई सहित महिलाओं व पुस्र्षों को विशेष सहायता देने की घोषणा की है। श्रमिकों को एक अप्रैल 2018 से विभिन्न् सहायता दी जाएगी।

No comments:

Post a Comment

Pages