बड़ा औद्योगिक क्षेत्र, लेकिन रोजगार की तलाश में पलायन कर रहे लोग - .

Breaking

Tuesday, 22 May 2018

बड़ा औद्योगिक क्षेत्र, लेकिन रोजगार की तलाश में पलायन कर रहे लोग

बड़ा औद्योगिक क्षेत्र, लेकिन रोजगार की तलाश में पलायन कर रहे लोग

वैशालीनगर विधानसभा क्षेत्र की गिनती बड़े औद्योगिक क्षेत्रों में होती है। एशिया की सबसे बड़ी स्टील कंपनी (भिलाई स्टील प्लांट) इससे लगी हुई, जबकि इसके कई सहायक उद्योग वैशालीनगर में चल रहे हैं। इसके बावजूद युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही है। बड़ी संख्या में लोग रोजगार की तलाश में पलायन कर रहे हैं। वहीं बस्तियों में पट्टा नवीनीकरण नहीं होने के कारण वहां रहने वालों को सिर पर छत की चिंता सता रही है। इसके अलावा कुत्तों और सुअरों के आतंक से पूरा क्षेत्र दहशत में है।
भूगोल: छत्तीसगढ़ के छोटे विधानसभा क्षेत्रों में से एक यह वैशालीनगर विधानसभा भी है। यह भिलाई नगर विधानसभा से लगा हुआ है। प्रशासन: वैशालीनगर विधानसभा क्षेत्र में कुल 27 वार्ड है। शिक्षा: नेहरू नगर, जुनवानी व कोहका को शिक्षाधानी के रूप में जाना जाता है। मेडिकल की पढ़ाई हो या इंजीनियरिंग की। यहां सभी उपलब्ध है। राज्य ही नहीं, देशभर से यहां स्टूडेंट्स पढ़ने आते हैं। स्वास्थ्य: 100 बिस्तर सरकारी अस्पताल है। वहां सभी तरह के रोगों का इलाज की सुविधा है। इसके अलावा यहां जटिल ऑपरेशन भी विशेषज्ञ डॉक्टर्स करते हैं। यहीं नहीं लगभग 10 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भी हैं। सड़कें: राष्ट्रीय राजमार्ग होने से यहां की सड़कें बेहतर है। नेहरू नगर से लेकर डबरापारा तक लगभग 12 से 15 किमी तक नेशनल हाइवे है। अभी हाल ही में फोरलेन की स्वीकृति भी मिली है। गौरव पथ को चार करोड़ स्र्पए से संवारा जाएगा।
आर्थिक: आर्थिक दृष्टिकोण से भी यह विध्ाानसभा काफी मजबूत है। यहां लगातार बड़े-बड़े शॉपिंग कॉम्प्लेक्स बन रहे हैं। जिले के तीन मुख्य बाजार यहीं स्थित है। लगभग आधा दर्जन सिनेमाघरों की भी सौगात विधानसभा क्षेत्र में है। कुल 27 वार्ड में से दो या तीन ही खेती बेल्ट है। जहां धान के अलावा सब्जियां उगाकर किसान उन्नत हो रहे हैं और अच्छी आमदनी कमा रहे हैं।
पांच साल में हुए विकास कार्य
- सड़कों पर वृहद कार्य
- वैशाली नगर कॉलेज को पीजी का दर्जा
- आवासीय लीज धारकों को मालिकाना हक दे रहे
- कुटेलाभाठा स्थिल कोसानाला पुल का जीर्णोद्धार
- कुरुद और खम्हरिया में पानी की टंकियों का निर्माण जारी
वैशाली नगर विधानसभा क्षेत्र में काफी विकास कार्य हुए हैं। अमृत मिशन योजना के तहत कुरुद और खम्हरिया में पानी की टंकियां बन रही हैं। इससे उस क्षेत्र में पेयजल की समस्या खत्म हो जाएगी। सभी वार्डों में अच्छी सड़कें बन रही हैं। रानी अवंती बाई चौक से लेकर सिरसा रोड तक 13 करोड़ रुपये की लागत से सड़क बनी। सुपेला चौक से राजेन्द्र प्रसाद चौक और कर्मा चौक से लेकर परदेशी चौक तक सड़क बन रही है। आकाशगंगा सुपेला के डामरीकरण व रायपुर नाका से लेकर जामुल बोगदा समेत कई अन्य कार्य स्वीकृत हो चुके हैं। सुपेला तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए राशि मिली। शिक्षा के क्षेत्र में भी बहुत कार्य हुए हैं। सुपेला और कैम्प-एक के दो मिडिल स्कूलों को हाई स्कूल में अपग्रेड किया गया। इसके अलावा वैशाली नगर कॉलेज टीवी क्लास शुरू किया गया और नई बिल्डिंग बनी। साथ ही उसे पीजी कॉलेज का दर्जा मिला। अभी विधानसभा में आवासीय लीज धारकों को उनकी जमीन का मालिकाना हक देने पर काम किया जा रहा है। यह शहर के लिए 
पहली जीत के साथ सरोज ने बनाया रिकॉर्ड
परिसीमन के बाद अस्तित्व में आए इस विधानसभा सीट से सरोज पांडेय ने एक अनोखा रिकॉर्ड दर्ज किया। दुर्ग की महापौर रहते 2008 में उन्होंने भाजपा की टिकट से विधानसभा चुनाव लड़ा। पांडेय ने कांग्रेस के ब्रजमोहन सिंह को 21 हजार वोटों से हराया। इसके बाद 2009 के लोकसभा चुनाव में पाण्डे दुर्ग से सांसद चुनी गईं। एक साथ महापौर, विधायक और सांसद बनने का उन्होंने रिकॉर्ड बनाया। उनके इस्तीफे के बाद खाली हुई इस सीट पर उप चुनाव में कांग्रेस के भजन सिंह निरंकारी ने भाजपा के जागेश्वर साहू को करीब 12 सौ वोट से हरा दिया। 2013 के चुनाव में निरंकारी से मुकाबले के लिए भाजपा ने विद्यारतन भसीन को मैदान में उतारा। भसीन ने करीब 24 हजार वोटों के अंतर से जीत दर्ज की।

No comments:

Post a Comment

Pages