शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर मप्र के एक्शन का इंतजार कर रही रमन सरकार - .

Breaking

Saturday, 26 May 2018

शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर मप्र के एक्शन का इंतजार कर रही रमन सरकार

शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर मप्र के एक्शन का इंतजार कर रही रमन सरकार

शिक्षाकर्मियों के संविलयन पर छत्तीसगढ़ में निर्णय मध्यप्रदेश में संविलियन के बाद ही लिया जाएगा। शिक्षाकर्मियों के मामले में गठित हाईपावर कमेटी के एक सदस्य ने बताया कि शिक्षाकर्मियों का संविलियन तो होगा ही लेकिन अभी यह देखा जा रहा है कि मध्यप्रदेश इस मामले में किन नियमों को लागू करता है। मध्यप्रदेश की तरह ही यहां भी संविलियन होगा। ज्ञात हो कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सबसे पहले शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा की। उनकी घोषणा के बाद से ही इस मुद्दे पर सुस्त पड़े शिक्षाकर्मी अचानक फिर नए तेवरों के साथ मैदान में उतर गए। शिक्षाकर्मियों की मांगों पर विचार करने के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने पहले ही मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक हाईपावर कमेटी बना रखी है।
इस कमेटी ने पहले एक अध्ययन दल राजस्थान भेजा फिर मध्यप्रेदश। टीम ने दोनों राज्यों में शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर क्या किया गया यह पता लगाया। मुख्यमंत्री कह रहे कि हाईपावर टीम की रिपोर्ट मिलने के बाद यहां शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर निर्णय लिया जाएगा जबकि टीम तभी अपनी रिपोर्ट देगी जब मध्यप्रदेश में संविलियन कर दिया जाएगा। शिक्षाकर्मियों के लिए राहत की बात यह है कि मध्यप्रदेश में जल्द ही संविलियन होने जा रहा है। 29 मई को मध्यप्रदेश कैबिनेट की बैठक है जिसमें संविलियन को हरी झंडी मिल सकती है।
बताया जा रहा है कि चार जून तक मध्यप्रदेश के शिक्षाकर्मियों को संविलियन का तोहफा मिल जाएगा। इसके बाद छत्तीसगढ़ में कार्रवाई शुरू होगी। नईदुनिया ने पहले ही बता दिया था कि यहां शिक्षाकर्मियों का संविलियन जुलाई में हो सकता है। तब तक शिक्षाकर्मियों को सब्र करना होगा।
सब्र करने को तैयार नहीं शिक्षाकर्मी, आज आंदोलन : - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कह चुके हैं कि शिक्षाकर्मी धैर्य रखें लेकिन शिक्षाकर्मी इसके लिए तैयार नहीं हैं। संविलियन को लेकर बेसब्र हो रहे शिक्षाकर्मी शनिवार को प्रदेशभर में संविलियन संकल्प दिवस मनाने जा रहे हैं। इसके तहत प्रदेश के सभी ब्लॉक मुख्यालयों में शिक्षाकर्मी अपने परिजनों के साथ धरना प्रदर्शन करेंगे। इस आयोजन के दौरान ही 26 मई के बाद प्रदेश व्यापी नए आंदोलन की रूपरेखा भी बनेगी। शिक्षाकर्मी कह रहे कि वे प्रदेश का दौरा कर जनमत संग्रह करेंगे।

No comments:

Post a Comment

Pages