दिल्ली विश्वविद्यालय में हर चार में से एक छात्रा को करना पड़ता है यौन उत्पीड़न का सामना - .

Breaking

Sunday, 29 April 2018

दिल्ली विश्वविद्यालय में हर चार में से एक छात्रा को करना पड़ता है यौन उत्पीड़न का सामना

दिल्ली विश्वविद्यालय में हर चार में से एक छात्रा को करना पड़ता है यौन उत्पीड़न का सामना : रिपोर्ट

दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ने वाली हर चार में से एक छात्रा को यौन उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है. इसका खुलासा हुआ है हाल में ही आई छात्र संगठन की ऑडिट रिपोर्ट में हुआ है. कांग्रेस की छात्र इकाई नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया ( एनएसयूआई ) ने सुरक्षा पर ऑडिट रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया है. इस रिपोर्ट में विश्वविद्यालय के 50 विभागों और कॉलेजों को शामिल किया गया है. दिल्ली विश्वविद्यालय से करीब 80 कॉलेज संबद्ध है. यह रिपोर्ट गुरुवार को जारी की गई. रिपोर्ट के मुताबकि 50 विभागों / कॉलेजों में से 22 ने अपनी यौन उत्पीड़न रोधी पैनल - आंतरिक शिकायत समिति में लोकतांत्रिक तरीके से छात्र प्रतिनिधियों को नहीं चुनकर यूजीसी के दिशा - निर्देशों का उल्लंघन किया. ऑडिट के तहत दिल्ली विश्वविद्यालय के 24 कॉलेजों और विभागों में सर्वेक्षण किया गया.


इस सर्वे में कुल 810 छात्र - छात्राओं ने सवालों के जवाब दिए.  इसमें करीब 90 प्रतिशत महिलाएं और 10 प्रतिशत पुरुष थे. रिपोर्ट में कहा गया कि हर चार छात्राओं में से एक ने यौन उत्पीड़न की शिकायत की. यौन उत्पीड़न के 188 मामलों में 40 मामले शारीरिक उत्पीड़न के थे. उत्पीड़न के पांच में से एक मामला जबरदस्ती छूने या पकड़ने का था।. उत्पीड़न के प्रत्येक पांच मामलों में से एक सोशल मीडिया पर ट्रोल करने या कॉल या लिखित वाट्सएप मैसेजों के जरिए उत्पीड़न का था.


जवाब देने वाले तकरीबन 80 प्रतिशत छात्र-छात्राओं ने परिसर में असुरक्षा के लिए विश्वविद्यालय या कॉलेज प्रशासन की ओर से कदम नहीं उठाने को जिम्मेदार ठहराया. एनएययूआई की राष्ट्रीय प्रभारी रूचि गुप्ता ने बताया कि ऐसा ऑडिट आगामी दिनों में देश के अन्य नामी विश्वविद्यालयों में भी कराया जाएगा. कैंपस में महिलाओं की सुरक्षा के लिए कदम उठाने की मांग को लेकर नार्थ कैंपस में एक मई को मार्च का आयोजन किया जाएगा .

No comments:

Post a Comment

Pages