प्रेग्नेंसी में जरूर लें विटामिन-डी, नहीं तो बच्चा होगा इस बीमारी का शिकार - .

Breaking

Thursday, 22 February 2018

प्रेग्नेंसी में जरूर लें विटामिन-डी, नहीं तो बच्चा होगा इस बीमारी का शिकार


          जो गर्भावस्था के दौरान विटामिन-डी की कमी से पीड़ित होती हैं, उनके बच्चों में जन्मजात और वयस्क होने पर मोटापा बढ़ने की अधिक संभावना रहती है। एक शोध में यह पता चला है। ऐसी मां की कोख से जन्म लेने वाले बच्चे, जिनमें विटामिन-डी का स्तर बहुत कम है, उनकी कमर चौड़ी होने या छह वर्ष की आयु में मोटा होने की संभावना अधिक होती है।
           इन बच्चों में शुरुआती दौर में पर्याप्त विटामिन-डी लेने वाली मां के बच्चों की तुलना में दो प्रतिशत अधिक वसा होती है। अमेरिका में दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर वइया लिदा चाटझी ने कहा, 'ये बढ़ोतरी बहुत ज्यादा नहीं दिखती, लेकिन हम वयस्कों के बारे में बात नहीं कर रहे, जिनके शरीर में 30 प्रतिशत वसा होती है।' विटामिन-डी की कमी को 'सनशाइन विटामिन' के रूप में भी जाना जाता है। इसे हृदय रोग, कैंसर, मल्टीपल स्केलेरोसिस और टाइप 1 मधुमेह के खतरे से जोड़ा जाता है।

विटामिन डी कमी के कारण

          विटामिन डी हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। यह शरीर में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करने का काम करता है, जो तंत्रिका तंत्र की कार्य प्रणाली और हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। विटामिन डी के लक्षण एकदम उभर कर सामने नहीं आते, इसी वजह से लोगों को समय पर विटामिन डी की कमी से होने वाले रोगों का पता ही नहीं चल पाता। इसलिए विटामिन डी की नियमित जांच और विटामिन डी युक्त भोजन लेना जरूरी है।

विटामिन डी के स्त्रोत

  1. साबुत अनाज विटामिन डी का अच्छा स्त्रोत है।
  2. अंडे का सेवन भी शरीर में विटामिन डी की कमी को पूरा करता है।
  3. मछली में भरपूर मात्रा में विटामिन डी होता है।
  4. विटामिन डी लेने के लिए आप मशरूम का सेवन कर सकते हैं।
  5. संतरा भी विटामिन डी का अच्छा स्त्रोत है।
  6. दूध या फिर डेयरी उत्पाद।
  7. रोजाना धूप में 20 मिनट बैठकर भी विटामिन डी लिया जा सकता है।

No comments:

Post a Comment

Pages