नवजात बच्‍चे की तेल मालिश करने के ये हैं 6 बड़े फायदे - .

Breaking

Monday, 15 January 2018

नवजात बच्‍चे की तेल मालिश करने के ये हैं 6 बड़े फायदे

नवजात बच्‍चे की तेल मालिश करने के ये हैं 6 बड़े फायदे


क्‍या आपके घर में नवजात बच्‍चा है? अगर हां तो आपको रोजाना बच्‍चे की मालिश करने की हिदायत जरूर मिलती होगी. तेल से बच्‍चे की मालिश करने की परंपरा सदियों से चली आ रही है. बच्‍चों खासकर नवजात की मालिश करने के ढेरों फायदे हैं. लेकिन आज की मॉडर्न जनरेशन इसे ज्‍यादा तवज्‍जो नहीं देती है और मालिश की जाए या नहीं इसे लेकर अकसर कंफ्यूज रहती है. यहां पर हम आपको नवजात बच्‍चे की मालिश करने के फायदों के बारे में बता रहे हैं, जिन्‍हें जानने के बाद आपका सारा कंफ्यूजन दूर हो जाएगा: 
1- अच्‍छी नींद 
नवजात बच्‍चों के सोने-उठने का कोई टाइम नहीं होता है. खासकर जब दिन भर की थकी मां के सोने का टाइम होता है बच्‍चा उसी वक्‍त जग जाता है. यही नहीं अगर बच्‍चा जगा रहे तो मां को आराम नहीं मिल पाता है. ऐसे में तेल मालिश बड़े काम की चीज है. बच्‍चे की हेल्‍थ और विकास के लिए सोना बहुत जरूरी है. विशेषज्ञों की मानें तो अगर सोने से पहले बच्‍चे की मालिश की जाए तो बच्‍चा जल्‍दी सो जाता है. यही नहीं उसे गहरी और लंबी नींद भी आती है. 
2- डाइजेशन 
रोजाना नवजात बच्‍चे की मालिश करने से हाजमा ठीक रहता है. कुछ बच्‍चों को गैस की श‍िकायत रहती है, जिससे वे ज्‍यादातर वक्‍त रोत रहते हैं. अगर रूटीन से बच्‍चों की तेल मालिश की जाए तो उन्‍हें गैस से होने वाली समस्‍याओं से छुटकारा म‍िल जाता है. साथ ही उन्‍हें दवाई भी नहीं देनी पड़ती. 
3- ब्‍लड सर्कुलेशन 
बेहतर ब्‍लड सर्कुलेशन न सिर्फ बड़ों बल्‍कि छोटे बच्‍चों की अच्‍छी हेल्‍थ के लिए भी बेहद जरूरी है. हालांकि वयस्‍कों के लिए ब्‍लड सर्कुलेशन सही करना ज्‍यादा मुश्‍किल नहीं होता है, लेकिन बच्‍चों के लिए यह आसान नहीं है. ऐसे में रोजाना उनकी तेल मालिश करके ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाया जा सकता है. कई शोधों में इस बात का खुलासा हो चुका है कि लगातार मालिश से बच्‍चों के शारीरिक अंगों का विकास तेजी से होता है. 
4- तनाव की छुट्टी
अगर आप स्‍ट्रेस में है तो मालिश करने से आपको बड़ा आराम मिलता है. ठीक इसी तरह तेल मालिश से बच्‍चों को भी शांत रखने में मदद म‍िलती है. मालिश से बच्‍चों की मांसपेश‍ियों को आराम म‍िलता है. 
5- मां-बच्‍चे के बीच का बॉन्‍ड
मां अगर बच्‍चे की मालिश करे तो बच्‍चे खुद को सुरक्ष‍ित महसूस करते हैं. इस तरह मां और बच्‍चे के बीच एक तरह का बॉन्‍ड भी बनता है. यह बच्‍चे के प्रति प्‍यार जताने का बहुत अच्‍छा तरीक भी है. अगर रूटीन से मालिश की जाए तो बच्‍चे को भी इसका इंतजार रहता है. यह वो समय है जब आपको अपने बच्‍चे की पसंद और नापसंद का भी पता चल पाएगा. 
6- बातें शेयर करने का समय 
मालिश करते समय बच्‍चे से खूब सारी बातें करनी चाहिए. उसे बताना चाहिए कि आप क्‍या कर रहे हैं. उसे बॉडी पार्ट्स के बारे में बताइए. इस तरह बच्‍चा धीरे-धीरे आपकी बात समझरने लगेगा और आपको रिस्‍पॉन्‍ड भी करेगा. 
मालिश करने वक्‍त बरतें सावधानी 
मालिश सरसो या जैतून के तेल से करनी चाहिए. मालिश करने से पहले अपने नाखून काट लें और ज्‍वेलरी उतार लें ताकि बच्‍चे को चोट न लग पाए. साथ ही ज़ोर-ज़ोर से मालिश्‍ करने के बजाए हल्‍के हाथों से मालिश करें. 

No comments:

Post a Comment

Pages