PM मोदी और मनमोहन सिंह ने संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को दी श्रद्धांजलि - .

Breaking

Wednesday, 13 December 2017

PM मोदी और मनमोहन सिंह ने संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को दी श्रद्धांजलि



संसद पर आतंकी हमले की बुधवार को 16वीं बरसी है। इस मौके पर मोदी, मनमोहन, राहुल समेत सांसदों ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस हमले में 8 जवान शहीद हुए थे।
नई दिल्ली. संसद पर हमले की बुधवार को 16वीं बरसी है। इस मौके पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान आरोप-प्रत्यारोप लगाते नरेंद्र मोदी और मनमोहन सिंह एक-दूसरे का अभिवादन करते नजर आए। हाल ही में कांग्रेस प्रेसिडेंट बने राहुल गांधी भी संसद पहुंचे और शहीदों को श्रद्धांजलि दी। बाद में वे भी सुषमा स्वराज, रविशंकर प्रसाद समेत सरकार के कई नेताओं से मिलते नजर आए। हमले की बरसी पर श्रद्धांजलि देने सभी बड़े नेता जुटे तो इससे डेमोक्रेसी की ताकत नजर आई। बता दें 13 दिसंबर, 2001 को संसद पर आतंकी हमला हुआ था, जिसे सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया था। महिला समेत 8 जवान शहीद हुए थे। 5 आतंकियों को मार गिराया गया था।
– हमले की 16वीं बरसी पर मोदी और राहुल के साथ ही पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, सोनिया गांधी, बीजेपी के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी समेत सत्ता और विपक्ष के नेता भारतीय जवानों की शहादत को सम्मान देने के लिए एक साथ खड़े नजर आए।
– ये मौका इसलिए भी खास है, क्योंकि मंगलवार को ही गुजरात चुनाव के दूसरे फेज के लिए प्रचार खत्म हुआ है। इस दौरान बीजेपी और कांग्रेस ने एक-दूसरे के लिए खासा हमलावर रवैया अपनाया था। इस दौरान ‘नीच विवाद’, ‘मंदिर’, ‘पाकिस्तान’ जैसे मुद्दे सामने आए थे। भाषाई मर्यादाएं भी टूटीं।
– वहीं, सारी तल्खियों के बीच संसद पर हमले की बरसी पर सारे नेताओं की एकजुटता से जाहिर हुआ कि देश लोकतंत्र के मंदिर पर हुए हमले को भूला नहीं है।
कब हुआ था हमला
– 13 दिसंबर, 2001 को संसद पर हुए आतंकी हमलों में दिल्ली पुलिस के 5 जवान, सीआरपीएफ की एक महिला अधिकारी, संसद के 2 सुरक्षाकर्मी और एक माली शहीद हुआ था।
– लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने संसद में विस्फोट कर सांसदों को बंधक बनाने की साजिश रची थी। देश के जवानों ने अपनी जान की बाजी लगाकर आतंकियों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने दिया।
– जिस दौरान संसद पर हमला हुआ, उस समय शीतकालीन सत्र चल रहा था। करीब 100 सांसद संसद में ही मौजूद थे।
– बाद में हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु को फांसी की सजा सुनाई गई थी। अफजल को 9 फरवरी 2013 को तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई।

No comments:

Post a Comment

Pages